Powered by Blogger.

चौपाल का दोहरा शतक: आगे जारी रखें या बंद कर दें? ब्लाग चौपाल राजकुमार ग्वालानी

>> Saturday, January 1, 2011

सभी को नमस्कार करता है आपका राज
 

आज हमारी इस चौपाल का दोहरा शतक पूरा हो गया है। लेकिन अब सोच रहे हैं कि इस चौपाल को आगे जारी रखा जाए या फिर बंद कर दिया जाए। हम देख रहे हैं कि ब्लाग जगत में कोई तो एक ऐसा इंसान  है जो लगातार बार-बार नाम बदलकर फर्जी नाम से हमें परेशान करने का काम कर रहा है। कारण साफ है जबसे हमने ब्लाग चौपाल का आगाज किया है, यह किसी एक को रास नहीं आ रही है। हमारे ब्लाग राजतंत्र में भी लगातार फर्जी नाम से टिप्पणियां करके परेशान करने का काम किया जा रहा है। एक तो हमारे पास ऐसे भी समय कम रहता है, उस समय में से समय निकाल कर सोचा था कि एक अच्छा काम किया जाए लेकिन लगता है कि अच्छा काम करने वालों की ब्लाग जगत को जरूरत नहीं है। अब आगे जरूर सोचना पड़ेगा कि क्या किया जाए।
मार्क्सवादी क्यों नहीं **?* उत्तर आधुनिकतावादी प्रवृत्तियों की उत्पत्ति की व्याख्या करने के लिए हमें 1950 और 1960 के दशकों में पूंजीवाद की सफलताओं ( उपभोक्ता पूंजीवाद या तथाकथित समृध्द समाज के अभ्युदय) ...
 
उच्च शिक्षा मंत्री लक्ष्मीकात शर्मा ने विभाग में शिक्षकों, क्रीड़ा अधिकारियों, ग्रंथपालों एवं कर्मचारियों को पदोन्नति और समयमान वेतनमान देने में विलम्ब को गंभीरता से लेते हुए अगले एक माह के भीतर पदोन्नति स...
 
जिन राज्यों ने मैनेजमेंट एस्पिरेंट्स को उनके ग्रेजुएशन के मार्क्स के आधार पर एडमीशन दिया है, एआईसीटीई ने उन्हें आड़े हाथों लेते हुए यह तय किया है कि बिना एंट्रेंस एग्जाम के मार्क्स के कोई भी स्टूडेंट पोस्ट...
 
 
विश्व भर में आर्थिक तंगी और भुखमरी के दोर से गुजर रहे चीन ने चाइना मेड उत्पाद विश्वभर में सस्ते दामों में उपलब्ध कराकर खुद अपने देश की आर्थिक स्थिति मजबूत कर ली हे और चप्पे चप्पे पर सस्ते दामों पर बेहतरीन ...
 
नमस्कार, आज वार्ता में विलंब हो गया। फ़टा फ़ट चलते हैं कुछ उम्दा लिंक्स पर। राहुल सिंग कह रहे हैं नया-पुराना साल बड़ा पक्षपाती है, यह काल का पहिया, जिसे चाहे अल्पावधि में उन्नति के शिखर पर ले जाकर बिठा दे और...
 
एक बार फिर से भारत में सब्जियों खासतौर पर प्याज, टमाटर और लहसुन की कीमतें आम आदमी की जेब में छेद करती दिख रही हैं. हालांकि केंद्र सरकार कोशिशों में लगी हुई है कि कीमतों को अर्श से वापस फर्श पर ना सही तो क...
 
रंग बिरंगे फूल चुने , चुन चुन कर माला बना , रोली चावल और नैवेध से , थाली खूब सजाई है , यह नहीं केवल आकर्षण , प्रवल भावना है मेरी , माला में गूथे गए फूल , कई बागों से चुन चुन , नाजुक हाथों से , सुई से धागे मे...
 
भारत की आजादी की लड़ाई में पत्रकारिता क्षेत्र का अहम योगदान रहा है.२०वीं शताब्दी की शुरुआत से ही जब स्वतंत्रता आन्दोलन जोर पकड़ने लगा था स्वतंत्रता प्राप्ति तक आन्दोलन का सक्रिय समर्थन करने के लिए पत्रकार...
 
पौष का महीना था, कड़ाके की ठंड पड़ रही थी। घर के लोग अलाव जला कर खुद को गर्म रख रहे थे। तभी साथ के कमरे से बालक के रोने की आवाज आई। आवाज सुनकर सारा घर खुशी से झूम उठा। तभी दाई ने खबर दी– “गुरुजी लड़का हुआ है...
 
सभी को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...जल्दी ही आप सभी को पढ़ भी पाऊँगा... जीने की कुछ उम्मीदें दो, और कहाँ कुछ माँगा था... थोड़ी सी अपनी साँसें दो, और कहाँ कुछ माँगा था... गंगा जमुना छुपी रहें पर, लब ये च...
 
आज जाना है की तड़प क्या होती हैं , किसी से बिछड़ने की कसक क्या होती हैं जितना करीब जाना था उसके वो उतना परे खिंच जाता हैं जब भी डूबना चाहा मैने उसमे, वो खुद सूखता जाता हैं कब समझेगा वो पागलपन मेरा , खुद ह...
 
आज वर्ष 2011 का पहला दिन, औरों का तो पता नहीं पर अपना दिन बहुत ही सुख के साथ गुजरा। कल रात से ही फोन और मोबाइल ने घनघनाना शुरू कर दिया था। लगातार आते बधाई और शुभकामना संदेश बता रहे थे कि लोग हमें याद भी...
 
स्कूल जाते वक्त हाथ थाम रखा था अपने बाबा का, इक छोटी सी बच्ची ने, कितना रोई थी वो स्कूल पहुँच कर, मत जाओ बाबा मुझे नहीं रहना यहाँ, क्या आप मेरे साथ नहीं रह सकते ? नहीं बेटा अभी मुझे जाना बहुत सारे...
 
कुछ जलते दिये हैं पास में, हर रात राह खोजता हूँ- पगडण्डियों के जाल में। चमकते वजूदों से है राजपथ रोशन, सहमता हूँ फटकते वहाँ, जहाँ पैरों के निशान न रहे। ...हाँ, मैं महत्वाकांक्षी नहीं, पर सपने खूब देखता हू...
 
किए फोन भेजे संदेश बसे हैं देश अथवा विदेश शुक्रिया धन्‍यवाद नहीं कहूंगा मन से दूंगा शुभ मंगलकामनायें सब सार्थक रचें सार्थक पढ़ें सार्थक बनें इ... 
 
हे प्रभु उन्हें सद्बुद्धि देना
हे प्रभु, नववर्ष, हिन्दू नहीं अंग्रेजी नववर्ष पर आपसे यह प्रार्थना है कि छत्तीसगढ के बारे में कुछ भी नहीं जानने वाले, विदेशों में रहने वाले अज्ञानियों को सद्बुद्धि देना। हो सके तो उन्हें क्षमा भी कर देना ...
 
सभी ब्लाँग जगत के साथियोँ को नये दशक के पहले वर्ष 2011 के लिये मेरी तरफ से ढेर सारी बधाईयाँ और शुभकामनाएँ ,दोस्तोँ मै उन लोगो से माँफी चाहूँगा जिन्होने मुझे मेल ,मैसेज किया और मैने उन्हे रिप्लाई नही किया ,..

द फ़र्स्ट डे प्रोमो ऑफ़ २०११ , पोस्ट झलकियां ….भईया जी ..इश्माईल
आप सबको वर्ष २०११ के शुभआगमन पर बहुत बहुत शुभकामनाएं WEDNESDAY, DECEMBER 29, 2010 'ईश्क का मंजन' गीत का भावार्थ प्रस्तुत मादक गीत हिन्दी सिनेमा जगत की आने वाली बहुचर्चित फिल्म 'यमला पगला ...
 
काँपता सा वर्ष नूतन आ रहा, पग डगमगाएँ साल जाता है पुराना सौंप कर घायल दुआएँ आरती है अधमरी सी रोज बम की चोट खाकर मंदिरों के गर्भगृह में छुप गए भगवान जाकर काम ने निज पाश डाला सब युवा बजरंगियों पर साहसों को जक...
 
किसी धर्मग्रंथ या शोध में लिखा तो नहीं, मगर सच है... प्यार जितनी बार किया जाए, चांद, तितली और प्रेमिकाओं का मुंह टेढ़ा कर देता है.. एक दर्शन हर बार बेवकूफी पर जाकर खत्म होता है... आप पाव भर हरी सब्ज़ी ...
 
समय दौड़ रहा है। आज सूरज ने भी अपनी रजाई फेंक दी है। किरणों ने वातायन पर दस्‍तक दी है। हमने भी खिड़की के पर्दे हटा दिए हैं। दरवाजे भी खोल दिए हैं। सुबह की धूप कक्ष में प्रवेश कर चुकी है। फोन की घण्‍टी चहकन...
 
बड़ा पक्षपाती है, यह काल का पहिया, जिसे चाहे अल्पावधि में उन्नति के शिखर पर ले जाकर बिठा दे और जिसे चाहे, पतन के गर्त में गिराकर नेस्तनाबूद कर दे, किन्तु इसकी निर्लिप्तता भी प्रशंसनीय है, इसके नीचे चाहे को...
 
 आप सोच रहे होंगे कि ये 'मुबारकबाद' के साथ 'मगर'? पर मैं भी क्या करूँ? जहाँ आपको मुबारकबाद देते हुए मुझे खुशी हो रही है वहीं यह सोचकर मेरे हृदय में पीड़ा भी हो रही है किः - हमने कैसे अपने स्वयं के साल को...
 
आज मै दस की हो ली अब ग्यारहवें वर्ष में प्रवेश किया है चाहती हूँ आप सभी इस आने वाले मेरे दशक में मेरे साथी बनें ये मेरे जीवन का एक बहुत ही उन्नत काल है यहीं से तो मुझे दिशा मिलेगी और इसी में मोहब्...
 
आज संकल्प लेना ही होगा की हम चुप नहीं रहेंगे चाहे इसके लिए हमें कोई सी भी क़ुरबानी देनी पड़े क्योकि हमारी ख़ामोशी से गलत प्रोत्साहित होता है और सही हतोत्साहित होता है . हमारी चुप्पी तोड़ने का मतलब हमारी और हम...
 
प्रिय बहणों और भाईयों, भतिजो और भतीजियों आप सबको शनिवार की घणी राम राम और साथ ही आज नये साल 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं. साल 2011 की प्रथम और ताऊ पहेली के *अंक 107 *में आपका हार्दिक स्वागत है. अब फ़टाफ़ट...
 
टेस्ट क्रिकेट में भारत के सबसे सफल कप्तान बनने की तरफ बढ़ रहे महेंद्र सिंह धोनी को भले ही भाग्य का धनी कहा जाता हो, लेकिन जब टॉस की बात आती है तो अधिकतर मौकों पर सिक्का उनका पक्ष नहीं लेता है। भारत ने ...
 
२०११ मे , मै अपनी हर संभव कोशिश करुँगी की हिंदी ब्लॉग मे किसी भी प्रकार के अश्लील चित्र देखूं तो आपत्ति जाता दू और नारी ब्लॉग पर उस लिंक को देकर लोगो को भी आपत्ति जताने का एक सार्थक मौका दूँ । २०११ मे , मै...
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 अच्छा तो हम चलते हैं
कल फिर मिलेंगे
 
 
 
 
 
 
 
 

4 comments:

ललित शर्मा January 1, 2011 at 10:00 PM  

जारी रखा जाए अनंत काल तक ।

आपकी इच्छा शक्ति को सलाम करता हूँ।
जो ब्लॉग चौपाल को 200 वीं पोस्ट तक ले आई।

200 वीं पोस्ट की ढेरों शुभकामनाएं

Asha January 2, 2011 at 1:40 AM  

अभी देखी २०० बी पोस्ट बहुत बहुत बधाई
आशा

अशोक बजाज January 2, 2011 at 9:07 AM  

दोहरे शतक की बधाई ! बढ़े चलो भाई राजकुमार जी .

उन्मुक्त January 2, 2011 at 5:14 PM  

दोहरे शतक की बधाई।

टिप्पणियों से क्या घबराना - मॉडरेशन का विकल्प खुला रखें और ऐसी टिप्पणी को न छापें।

Post a Comment

About This Blog

Blog Archive

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP