Powered by Blogger.

सरकार की छवि बदलने की कौशिश -मैदान पर भिड़े गौरी-किरण -ब्लाग चौपाल- राजकुमार ग्वालानी

>> Friday, January 21, 2011

सभी को नमस्कार करता है आपका राज
 
 
अखिल भारतीय हिन्द स्पोर्टिंग फुटबॉल के उद्घाटन में मैदान पर ही खनिज निगम के अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल और महापौर किरणमयी नायक फुटबॉल मैदान को लेकर भिड़ गए। दोनों के बीच चले शब्द भेदी बाणों से आयोजनों को भी लग...
 
महेश राठी काफी समय के इंतजार के बाद आखिरकार केंद्रीय मंत्रिमंडल में आंशिक बदलाव हो ही गया। प्रधानमंत्री और कांग्रेस की लगातार घोषणाओं के बावजूद इसमें मंहगाई और भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने की प्रतिबद्धताओं क...
 
सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ पर सुप्रीम कोर्ट ने भड़कते हुए कहा कि लगता है कि आप लोगों को देश की संस्थाओं से अधिक विदेशी संस्थाओं पर भरोसा है. गुजरात दंगों से जुड़े मुद्दों पर विचार करते स...
 
छत्तीसगढ़ के ग्रामीण मड़ई मेलों का अपना अलग ही रोमांच होता हैं। जहाँ होता है सजे धजे लोग, उल्लास उमंग से भरे हंसते खिलखिलाते किलकारियों से गूंजता माहौल, सजी-धजी दुकानें, गुब्बारे, खेल-खिलौने व फिरकनियां, जले...
 
नयी फ़िल्में मैने गिनती की देखी हैं। दूरदर्शन पर आने वाली बिना टिकट की फ़िल्म प्रति रविवार श्रद्धा भाव से देखी थी। जब 1973-74 में टीवी आया गाँव के स्कूल में तो रविवार को शाम 4 बजे से ही अपना बोरा सामने में ...
 
मित्रों आज किसी ब्लाग पर कुछ पढ़ते हुए एक संदर्भित लाइन *"हम झूठै-मूठे गायित है, आपन जियरा बहलायित है| "* पढ़ने को मिली। हालाँकि पूरी रचना तक मै नही पहुँच पाया मगर यही एक लाईन सीधे दिल में उतार गयी......
 
भ्रष्टाचार के कारण भ्रष्टाचार के कारण इन्फ़ोसिस अपना प्रधान कार्यालय बैंगलोर से पूना ले जा रहा है, जी हाँ कर्नाटक सरकार के भ्रष्टाचार से परेशान होकर, यह पहली बार नहीं हो रहा है, कि कार्पोर...
 
आनेवाले सप्‍ताह की शेयर बाजार की भविष्‍यवाणी करते हुए मेरे आलेख प्रति सप्‍ताह मोल तोल में प्रकाशित होते ही हैं , पिछले माह तस्‍लीम के एक लेख में योगेश नाम के एक पाठक से हुई बहस में भी मैने कहा था कि 20 दिस...
 
जंगल बिक चुके हैं,पहाड़ बिक चुके हैं,अब नदी और बांध भी बिक रहें,आगे पता नही क्या बेचेंगे?जी हां मैं,सच कह रहा हूं।जंगलों मे तेंदूपत्ता और वनोपज से लेकर लकड़ी व्यापारियों के हाथ मे जा चुका है।अंधाधुंध अवैध कट...
 
बेहद कम समय में, हमारीवाणी की लोकप्रियता निश्चय ही चौंकाने वाली रही है ! लाखों इंडियन ब्लोग्स के बीच हमारीवाणी का भारत में अलेक्सा रैंक ७१२५ है, तुलना करने के लिए, मेरे अपने ब...
 
कलकत्ता हाईकोर्ट ने स्कूलों में छात्र-छात्राओं पर शारीरिक अत्याचार रोकने के लिए उठाये गये कदम पर सरकार से दो सप्ताह के अंदर रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया है। न्यायालय सूत्रों के मुताबिक अधिवक्ता तापस भंज ...
 

लो फिर हो गई लूट ........सोच रहे थे तीन चार दिन से कुछ क्राइम ही नही हो रहा है ............................पर गोली नही चली इसलिए नेशनल खबर नही ......छोड़ों रहने दो कवर मत करो .....कोई मरा हो तो कवर कर लेन...
 
आज खबरों में पढा कि वयोवृद्ध सिनेकर्मी, पूर्व स्वतंत्रता सैनानी 95 वर्षीय श्री अवतार कृष्ण हंगल जो, ए.के. हंगल के नाम से ज्यादा जाने जाते हैं, बहुत बिमार हैं और काफी दिनों से बिस्तर पर हैं। वे अपने पुत्र व...
 
यह देश का दुर्भाग्य ही है कि हिंदी भाषा के प्रचार-प्रसार के लिए जब भी केंद्र सरकार कोई योजना बनाती है अथवा कोई अन्य पहल करती है तो उसे राजनीतिक दांव-पेंच में उलझा दिया जाता है। पिछले दिनों विश्वविद्यालय अन...
 
सागर में सीपी सीपी में मोती , वह गहरे जल में जा बैठी आचमन किया सागर जल से स्नान किया खारे जल से फिर भी कभी नहीं हिचकी गहरे जल में रहने में क्योंकि वह जान गई थी एक मोती पल रहा था तिल-तिल कर बढ़ रहा था उसके तन ...
 
प्रथम अश्वेत गणतंत्र नए विश्व के समीकरण में नहीं उतरता कहीं खरा क्योंकि उसे चुकाना है अभी अपने स्वतंत्र होने का मूल्य दो शताब्दी के बाद भी. विश्व की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था समृद्धि और आधुनिकता के राष्ट...
 
उलझन: इन्हें परिवार में सभी की चिंता है, पर मेरी नहीं
इस बार उलझन में हम बात कर रहे है विनीता जी की,यह एक संयुक्त परिवार से है जहा एक लम्बा अरसा गुजार देने के बाद भी वो समस्यों से दो चार हो रही है उन्होंने अपनी समस्या को रखा है जहा कुछ दोस्तों ने अपने सुझाब...
 
मेरी आँखों को तेरी नज़र दे दे , अय दोस्त मुझ पर रहमत कर दे ... मेरे भीतरसे ये दुनियाकी और का रास्ता आँख की खिड़कीसे होकर गुजरता है .... मेरा भीतर मेरे लब्ज़ मेरी आँखमें सजते है , बस ये पढनेकी जरासी जेहमत कर द...
 
जो गति तोरा सो गति मोरा रामा हो रामा-ब्रज की दुनिया
कई बार हम जो सोंच रहे होते हैं और आशंकित रहते हैं कि कहीं ऐसा-वैसा न हो;नियति ने हमारे लिए उसके बिलकुल उलट इंतजाम करके रखा होता है.मुझे ७ जनवरी को भोपाल के लिए ट्रेन पकडनी थी.टेलीविजन पर लगातार आक्रामक ..

किसी भी इमारत के बनने में बहुत सी ईंटें लगी होती हैं। जिसमें से कुछ नीव में लगी होती हैं , जो कहीं से दिखती ही नहीं और उनको पहचान नहीं मिलती। ब्लॉग जगत में मेरे इस छोटे से सफ़र में बहुत से लोगों का महत्वप...
 
माध्यमिक शिक्षा मंडल (माशिमं) की बोर्ड परीक्षा की तैयारी के लिए आयोजित प्री-बोर्ड की परीक्षा जिले में 1 से 7 फरवरी के बीच पूरी होगी। डीईओ कार्यालय ने माशिमं से जुड़े सभी स्कूलों को तय समय में प्रक्रिया पूर...
 
 
 अच्छा तो हम चलते हैं
कल फिर मिलेंगे
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

5 comments:

yellow January 21, 2011 at 7:23 PM  

महानुभाव, कौशिश नहीं कोशिश।

डॉ॰ मोनिका शर्मा January 22, 2011 at 9:55 AM  

अच्छे लिनक्स की चौपाल .....

अशोक बजाज January 22, 2011 at 10:01 AM  

अच्छे लिंक्स प्रदान करने के लिए आभार .

Asha January 22, 2011 at 4:35 PM  

ब्लॉग चौपाल हर दिन क्यों नहीं सजती |इसकी उत्सुकता से प्रतीक्षा रहती है |अच्छी चौपाल सजी है बधाई |मेरी पोस्ट के लिये आभार
आशा

शिक्षामित्र January 23, 2011 at 6:57 AM  

हफ्ते भर से सांसें अटकी थीं। फिर से देखकर संतोष हुआ। जारी रखिए।

Post a Comment

About This Blog

Blog Archive

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP