Powered by Blogger.

राजधानी दिल्ली -- बलात्कारी दिल्ली-सूखे देश में राष्ट्रपति जी का हरित क्रांति का सपना -ब्लाग चौपाल- राजकुमार ग्वालानी

>> Wednesday, December 22, 2010

सभी को नमस्कार करता है आपका राज
 
 
प्रदेश का खेल विभाग भी मप्र का अनुशरण करते हुए खिलाडिय़ों को फायदा पहुंचाने वाले अनुदान नियम बनाने की तैयारी में है। अगर ये नियम प्रदेश में लागू हो जाते हैं तो खिलाडिय़ों पर पैसों की बारिश होने लगेगी। मप्र क...
 
मानसून , बेमोसम बरसात ,प्राक्रतिक आपदा,मोसम की मार ,रेगिस्तान सहित अन्य समस्याओं से जूझ रहे इस देश में राष्ट्रपति महामहिम पतिभा पाटिल हरित क्रांती लाना चाहती हे , कल उदयपुर में उन्होंने देश की स्थिति पर चि...
 
बड़े ही शर्म की बात है की जिस देश की राष्ट्रपति महिला हैं। UPA की अध्यक्ष भी महिला हैं और दिल्ली की मुख्य मंत्री भी महिला हैं, वहाँ भी बच्चियां और महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं और दिनों दिन बलात्कार की घटनाएं 
 
प्‍याज ही खुशीप्‍याज ही खुशी प्‍याज जिंदगी प्‍याज है तो प्‍याजप्रसन्‍न हैं सब आगे पढि़ए अब 
 
किसानों के मसीहा चौधरी चरण सिंह अरविन्द विद्रोही राजनीति के ऐसे श्लाका पुरूष चौधरी चरण सिंह जिन्होंने अपने सम्पूर्ण जीवन काल में देश के दलितों,पिछड़ों,गरीबों और किसानों की बेहतरी के लिए संघर्ष किया,राजन...
 
'आत्महत्या' शब्द के बारे में वार्तालाप में निरंतर चर्चा होती रहती है। अत: ऐसा सोचा जा सकता है कि इसके बारे में सब जानते हैं और इसकी परिभाषा देना फुजूल है। वास्तव में रोजमर्रा की भाषा के शब्द और उनसे जो अव...
 
चिट्ठाजगत आया, ब्‍लॉगर खुश जी हां अब स्‍वस्‍थ है आनंदित है आप भी आनंदित हो आयें चिट्ठाजगत पर अपनी पोस्‍टें अपनी नहीं सबकी पोस्‍टें देखें पढ़ें और टिप्‍पणियायें आप सभी को चिट्ठाजगत की वापसी की श...
 
प्रिय ब्लॉगर मित्रो, प्रणाम ! *ब्लॉग 4 वार्ता* के इस मंच से आज सीधे चलते है ब्लॉग वार्ता की ओर ! सादर आपका * * *शिवम् मिश्रा* ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

एक समाचार 22/12/2010 छत्तीसगढ़ राज्य भण्डार गृह निगम के नवनियुक्त अध्यक्ष श्री अशोक बजाज ने आज यहां अवंति विहार स्थित निगम के नए कार्यालय का शुभारंभ किया। इस अवसर पर कृषि मंत्री श्री चंद्रशेखर सा...
 
मन की अगन को बढा देती हैं काम , क्रोध, मोह , लोभ की आहुतियाँ . बढ़ाना है गर इसको तो बहानी होगी प्रेम की निर्मल धारा . बढाने के दो अर्थ हैं -- १--- अधिक करना २-- बुझाना 
 
जान...आज जाने कितने साल हो गए तुम्हें एक नज़र देखे हुए. अभी अभी लॉन्ग ड्राइव से लौटी हूँ. ड्राइविंग लाइसेंस एक्सपाइर होने वाला है, उसको रिन्यू कराने के पहले के कई सारे कागजातों का पुलिंदा है, मेडिकल सर्टिफ...
 
नये साल की नयी सुबह आने को है उम्मीदे फिर नये ख्वाब सजाने को है सज गये है बाजार फिर से खुशियों के कुछ नये खरीदार दाम लगाने को है कैसा रहेगा नया साल आपके लिये भविष्यवक्ता फिर से ये बताने को है सुकून लायेग...
 
पहली बार इतना बड़ा घोटाला, पहली बार अदालत में पीएम ने दिया जवाब, पहली बार संसद का एक पूरा सत्र नहीं चला और शायद पहली बार पीएसी और जेपीसी को लेकर इतना हंगामा हो रहा है.... विपक्ष और सरकार की इतनी ज़्यादा ट...
 
तलवारें हैं कागज की पर जुल्म मिटाने निकले हैं अपनी बस्ती मे देखो ये कुछ दीवाने निकले **हैं* * अत्याचारों की ये लंका आखिर कब तक चमकेगी पवनपुत्र-सी हिम्मत लेकर आग लगाने निकले हैं * * जहाँ कहीं अन्याय दिखे त...
 
 
 
 अच्छा तो हम चलते हैं
कल फिर मिलेंगे
 
 
 
 
 
 
 

1 comments:

Post a Comment

About This Blog

Blog Archive

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP