Powered by Blogger.

इंजतार खत्म, अब मिलेगी नौकरी-क्या करें जब आपसे पूछा जाए कि आप कितना वेतन चाहते हैं? - ब्लाग चौपाल- राजकुमार ग्वालानी

>> Wednesday, December 29, 2010

सभी को नमस्कार करता है आपका राज </a>
 
प्रदेश सरकार के उत्कृष्ट खिलाड़ियों का एक साल का लंबा इंतजार अब खत्म हो जाएगा। सरकार ने इन खिलाड़ियों के भर्ती नियम जारी करते हुए इसका राजपत्र में प्रकाशन कर दिया है। राजपत्र में प्रकाशन न होने के कारण ही ख...
 
तालेख : तेरा वैभव अमर रहे माँ...मगर कचरे में ?
गाय* *के सवाल पर मैं निरंतर कुछ न कुछ लिखता रहता हूँ. यह बता दूं कि मैं धार्मिक नहीं हूँ. पूजा-वगैरह में कोई यकीन नहीकरता. मंदिर भी नहीं जाता. भगवान् के सामने हाथ जोड़ने की ज़रुरत ही नहीं पडी, क्योंकि मे...
 
विरोध प्रदर्शन नहीं होते तो आज जेसिका, प्रियदर्शिनी और रुचिरा के हत्यारे जेल में नहीं होते * डा. बिनायक सेन को देशद्रोह के आरोप में उम्र कैद की सजा पर कुछ बुद्धिजीवियों का तर्क है कि यह फैसला कोर्ट का ह...
 
बतला नहीं रहा हूं जानना चाह रहा हूं या मान सकते हैं पूछ रहा हूं क्‍या है आपके पास ऐसी कोई सूची मन में ही हो तो भी जारी कीजिए नव वर्ष में हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग को सार्थकता प्रदान कीजिये पंगे लेना ध्‍येय नहीं 

हमें पेंड्रारोड़ के पड़ाव को छोड़ना था और जाना था बांधवगढ की ओर। होटल पहुंच कर सामान उठाया चल पड़े मंजिल की ओर। वेंकट नगर से हमने मध्यप्रदेश में प्रवेश किया। अनूपपुर होते हुए शहडोल पहुंचे। रास्ते में चचाई पा...
 
हर किसी की जिंदगी मै एक मकसद होता है ! खुद बेवफा हो लेकिन तलाश वफ़ा की रखता है !! अगर हम दिल से ये चाहते हैं की हम अपने देश मै अमन का पैगाम लाये तो हमें सबसे पहले अपने...
 
भाई, बिनायक सेन कौन है ?
पिछले कुछ महीनों से लगातार और पिछले दिनों से बार बार पूछ रहा हूँ मैं छत्‍तीसगढ़ के गांवों से , गांवों में रहने वाले रोग ग्रस्‍त, गरीब ग्रामीणों से, बस्‍तर के जंगलों से, जंगल में रहने वाले लंगोटी पहने आदिवास...
 
साल की शुरुआत कैसी हो, जब यह हमे ही तय करना है तो क्याें ना कुछ अच्छे से ही आरंभ करें. रोज ना सही महीने या साल मे तो कुछ अच्छा कर ही सकते हैं। इस अच्छा करने की सीधी सी परिभाषा है जिस काम को करके आप के मन क...
 
इ ओ डब्ल्यू ने आज बैकुंठपुर के सी ऍम ओ डॉ गंभीर सिंह ठाकुर के सात ठिकानो पर छापे की कारवाई में ४ करोड़ से अधिक की अनुपातहीन संम्पत्ति का खुलासा हुआ है.
 
कई बार योग्यताओं पर खरा उतरने के बाद नौकरी का तय होना वेतन के मुद्दे पर आकर अटक जाता है। जैसे ही आप सोचने लगते हैं कि इंटरव्यू सफलतापूर्वक संपन्न हुई, आपसे प्रश्न पूछ लिया जाता है कि आप कितना वेतन चाहते है...
 
पत्रकारिता को एक सम्मानजनक पेशा माना जाता है। एक स्वस्थ तथा रचनात्मक समाज की स्थापना तथा सुरुचिपूर्ण जनमत के निर्माण में पत्र और पत्रकारों की अग्रणी भूमिका होती है। सभ्य और सुसंस्कृत समाज के लिए निष्पक्ष ए...
 
हूँ एक ऐसा हतभागी , दुनिया ने ठुकराया जिसे , वे भी अपने न हुए , विश्वास था जिन पर कभी , सफलता कभी हाथ नहीं आई , असफलता ने ही माथा चूमा , साया तक साथ छोड गया , तपती धूप में जब खडा पाया , कभी सोचा भाग्य ही खरा...
 
गोवा की रंगीनियाँ क्रिसमस में
राजेश,शशि, नवनीत,निखिल और मैं मैने अपनी रेल यात्रा के संस्मरण कई बार लिखे हैं....मेरी विदाउट रिजर्वेशन और विदाउट टिकट वाली यात्रा संस्मरण पढ़, समीर जी ने टिप्पणी भी की थी."*अब कुछ और बचा हो जैसे रेल की ...
 
अगर, आप अपने नौनिहाल को अंतरराष्ट्रीय स्कूल में पढ़ाने का सपना देखते हैं, तो आपको कम से कम करोड़पति होना पड़ेगा। वजह-मुंबई के इंटरनैशनल स्कूलों की प्रिप्राइमरी कक्षाओं की फीस लाखों में पहुंच चुकी है। एनबीट...
 
बिनायक पर हंगामा क्यों ?* *डॉ वेदप्रताप वैदिक* *डॉ. *बिनायक सेन को लेकर देश का अंग्रेजी मीडिया और हमारे कुछ वामपंथी बुद्धिजीवी जिस तरह आपा खो रहे हैं, उसे देखकर देश के लोग दंग हैं। इतना हंगामा तो प्रज...
 
 
 अच्छा तो हम चलते हैं
कल फिर मिलेंगे
 
 
 
 
 
 
 
 
 

7 comments:

Asha December 29, 2010 at 8:46 PM  

राज कुमार जी लिंक्स अच्छी लगीं बधाई |आपको नव वर्ष की शुभ कामनाएं |मेरी रचना सम्मिलित करने के लिए आभार |
आशा

ललित शर्मा December 29, 2010 at 9:00 PM  

राम राम सांई
नए साल की बधाई
सुंदर चौपाल सजाई।

yellow December 29, 2010 at 9:55 PM  
This comment has been removed by the author.
yellow December 29, 2010 at 10:22 PM  

हम 5 नाम तो नहीं बता सकते हैं लेकिन कह सकते है कि जो भी 5 की लिस्ट बने और उसमें 20 साल से पत्रकारिता कर रहे भाई राजकुमार ग्वालानी जी का नाम अवश्य ही होना चाहिये।

वन्दना December 30, 2010 at 2:37 AM  

सुन्दर और सार्थक चौपाल्।

girish pankaj December 30, 2010 at 2:46 AM  

sundar...sarthak...mehan dikhati hai...

शिक्षामित्र December 30, 2010 at 5:34 AM  

यह पहला मौक़ा है,जब किसी चर्चा मंच पर भाषा,शिक्षा और रोज़गार ब्लॉग के एक से अधिक पोस्ट लिए गए हैं। परम् आभार। आपके बताए सभी लिंको पर से हो आया हूँ।

Post a Comment

About This Blog

Blog Archive

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP