Powered by Blogger.

ऐसी दीवानगी देखी नही कहीं,, सचिन तेंदुलकर से एक और मुलाकात-ब्लाग चौपाल- राजकुमार ग्वालानी

>> Wednesday, September 15, 2010

सभी को नमस्कार करता है आपका राज
आज ज्यादा कुछ नहीं है कहने को, सुबह-सुबह बच्चों को स्कूल छोड़ने गए तो मालूम हुआ कि आज शहर में हड़ताल की वजह से स्कूल में भी छुट्टी है। अब इन हड़ताल वालों को क्यों कर बच्चों की चिंता हो, क्योंकि इनके बच्चे तो लगता है पढ़ते नहीं है.... 
रायपुर`जिले में स्कूली बच्चों के लिए चलाया जा रहा है पर्यावरण जागरूकता अभियान पूरे शबाब पर है, इस कार्यक्रम से पर्यावरण के प्रति बच्चों के मन में अभूतपूर्व प्रेम जागृत हो रहा है .स्कूली बच्चो के जबर्दस्त
अचानक एक कार्यक्रम में जाना हुआ, तो देखा कि वहां के कार्यक्रम में मुख्य अतिथि अपने सचिन तेंदुलकर हैं। सचिन के यहां होने की किसी को जानकारी नहीं थी। सचिन को देखकर हमें भी अच्छा लगा कि चलो यार डेढ़ दशक बाद ...
संगीता पुरी कहती हैं- दिल्‍ली के कॉमनवेल्थ गेम्स में बारिश की परेशानी ??
चार छह दिनों के ट्रिप के बाद कल ही बोकारो लौटना हुआ, झारखंड और बिहार में तो इस वर्ष बारिश बहुत ही कम हुई है , पर देश के बाकी हिस्‍सों में बारिश से जनजीवन अस्‍त व्‍यस्‍त सा लगा । हर स्‍थान पर रुक-रुक कर कभी...
डॉ.कविता वाचक्नवी बता रही हैं- कवि-गोष्ठी के बहाने...
कवि-गोष्ठी के बहाने... *शब्द-शब्द सहेजी गयीं **संवेदनाएँ**, बयाँ हुआ स**च* * * * * * * हिंदी दिवस की पूर्व संध्या पर म.गा.अं.हिं.वि.वि. के इलाहाबाद स्थित क्षेत्रीय विस्तार केंद्र में इलाहाबाद शहर के ख्य...
कुछ खास नहीं हैं मेरे पास करने को , क्यों न ये बिखरा जहाँ समेट लू ........ कुछ गम बुहार लू , फेकूं वहां जहाँ से वो फिर न उड़े ......... तन्हाई की फेली चादर लपेट लू ,..... रखु ऐसे की वो ...
-मुमताज़ और टी एच खान*** *आप हम को मिले**,* *यह हमार भाग्य था ।*** *आपने हमको अपनाया**,* *यह हमारा सौभाग्य था ।*** *आप वर्षों बाद फिर मिले**,* *यह फिर हमारा सौभाग्य है ।*** *आपसे हमने भाई का स्नेह पाय...
  
किसी भी नए सदस्य को ठगों के गिरोह में शामिल करने से पहले वो उसे कब्रगाह पर बैठाकर गुड़ जरुर खिलाता था। एक बार कैप्टन स्लीमैन ने एक ठग से इसका कारण पहुंचा तो उसने जबाब दिया कि हुजूर ‘तपोनी’ (यानि कब्रगाह...
४ साल पहले इस मंचीय व्यंग्य कविता के पाठ पर हिन्दी दिवस पर दिल्ली के एक सरकारी संस्थान में पुरस्कार मिला था.. कोई ख़ास तो नहीं मगर फिर भी पढ़ियेगा.. अब तो इस सब के हम आदी हो गए हैं-३ लन्दन वाले कप..
प्रिय मित्रों , पिछले कई दिनों मे जब गूगल सर्च का डाटा देखा तो जाना कि गूगल पर सबसे ज्यादा खोजा जाने वाला डाटा है अर्न मनी ऑनलाइन यानि कि इन्टरनेट पर पैसा कमाने के तरीके तब सोचा कि लगभग हर नया इन्टरनेट उ...
बारिश के दिनों की बात है . एक परिवार के मकान की छत से बारिश का पानी टपकता (चूता)था और सारे कमरे में बरसाती पानी भर जाता था . मकान मालिक की पत्नी ने अपने आलसी पति से कहा - देखिये बारिश के दिन आ गए हैं और ब...
यशवंत मेहता बता रहे हैं- मच्छर को मारने का सबसे आसान तरीका
डेंगू-मलेरिया के बढ़ते प्रकोप ने वैज्ञानिक "घास-बुद्धि" को मच्छर मरने के तरीके खोजने पर मजबूर कर दिया! आखिरकार कड़ी मेहनत और लगन से "घास-बुद्धि" ने मच्छर को मारने का सबसे आसान तरीका खोज ही लिया! तो आइये जान...
परसों की पोस्ट "अच्छे ब्लॉग लेखन के लिए जरूरी है .....!" से आगे बढ़ते हुए आज प्रस्तुत है - कैसे करें बेनामी टिप्पणियों की पहचान ? ** *यह प्रकृति का नियम है ,कि - " हर अगला कदम पिछले कदम से खौफ खाता है .....
अपनी करनी छुपाने सरकारी विज्ञापन के मार्फत खजाना लुटाने की कोशिश में छत्तीसगढ़ जैसे छोटे राय में अखबार की बाढ़ आ गई है। बड़े प्रतिष्ठित माने जाने वाले अखबार बिरादरी की आमद ने पत्रकारों का भाव तो बढ़ाया ही है आम ...
एक छोटा सा प्रोजेक्ट, उसके क्रियान्वयन के लिए ढेरों मीटिंग, और उन सब मीटिंगों में अनगिनत प्रिंटआउट लेकर आते हुए लोग। मीटिंग के अन्त में मिनट तो भेजे ही जायेंगे किसी के द्वारा ... 
 भाग 1 , भाग 2, भाग 3, भाग 4, भाग 5, भाग 6, भाग 7, भाग 8, भाग 9, भाग 10, भाग 11, भाग 12, भाग 13,भाग 14 , भाग 15, भाग 16, भाग 17, भाग 18, भाग 19, भाग 20, भाग 21, भाग 22, भाग 23, भाग 24 *से जारी*... ... ऊर्मि...
 अच्छा तो हम चलते हैं
कल फिर मिलेंगे
.

Post a Comment

About This Blog

Blog Archive

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP