Powered by Blogger.

अन्तर्मन् से अनेक मन तक, नक्सली हैं हमारे रोल मॉडल- ब्लाग चौपाल- राजकुमार ग्वालानी

>> Friday, September 17, 2010

सभी को नमस्कार करता है आपका राज
हम पिछले दो दिनों से सोच रहे हैं कि दो दिन बाद होने वाली पेट्रोल पंप वालों की हड़ताल से देश का क्या हाल होगा। अगर यह हड़ताल लंबी चली तो सभी का जीवन बुरी तरह से अस्त व्यस्त हो जाएगा यह तय है...
अन्तर्मन् से अनेक मन तक
एक और शनिवार, एक और चर्चा, एक और चिट्ठाकार लेकिन सुस्ती थोड़ा ज्यादा है इसलिये सोचा इंडिया तक का सफर कौन करे यहीं किसी को पकड़ उसकी चर्चा कर देते हैं। आसपास नजर दौड़ायी तो वो अन्तर्मन् पर जाकर अटक गयी, आखि...
जो नक्सली आज अपने देश के लिए नासूर बन चुके हैं उनको अगर कोई कहे कि वे हमारे रोल मॉडल हैं, तो वास्तव में यह दुखद बात होगी या नहीं? लेकिन इसका क्या किया जाए कि बस्तर के बच्चे नक्सलियों को ही अपना रोल मॉडल मा...
*प्रिय ब्लॉगर मित्रो,* *प्रणाम !* कल विश्वकर्मा पूजा का अत्यन्त शुभ दिन था और हर्ष की बात है कि कल ही ललित शर्मा जी के *ललितकला पोर्टल* का छत्तीसगढ़ के मुख्य मन्त्री रमणसिंह के द्वारा लोकार्पण किया गया। ...
जल रहा है कश्मीर, देखने में तो पत्थर फेंके जा रहे हैं पर मंच के पीछे घिनौने राजनीतिक दांव पेंच फेंके जा रहे हैं । गरीब लोग जो हर जगह गुमराह और गुमनाम रहते हैं, यहाँ पर भी प्रतिघात के शिकार हैं और दिखावे ...
शिल्पकारों की बेहतरी के लिए उन्हें 'लोकल' से 'ग्लोबल' बाजार दिलाना जरूरी : -------------------डॉ. रमन सिंह * ** मुख्यमंत्री ने किया वेबसाईट 'ललित कला डॉट इन' का लोकार...
तेरी अधरों की मुस्कान** **देखने को हम तरस गए** **घटाए भी उमड़-घुमड़ कर** **यहाँ वहाँ बरस गए** ** **पर तेरी वो मुस्कान** **जो होंठों पर कभी कायम था** **पता नहीं क्यों किस जहां में** **जाकर सिमट गए** ** **ते...
अजित गुप्‍ता बता रही हैं- हम अपनी पुस्‍तकें किसे भेंट करते हैं? कद्रदान को या नामचीन को?
इस पोस्‍ट को लिखने की प्रेरणा आज सुबह हुई, जब हमारे घर की विद्युत व्‍वस्‍था को देखने वाला मेकेनिक “अहमद” सुबह हमारे घर की घण्‍टी को दुरस्‍त करने के लिए आया। टेबल पर मेरी कल ही प्रकाशित होकर आयी नयी पुस्‍तक...
इ बादलवा नम्बरी बदमास है, कोने में नुका के बैठल रहेगा और जैसे ही कपडा लार के आयेंगे दन्न से बरसेगा जैसे केतना जो एमरजेंसी है. भोरे से बैठ के एतना चादर धोये हैं, तनी कमर सीधा करने लगे के आंख लग गया. भर दुपह...
गगन शर्मा कहते हैं- मेरे शेव करने पर तो आपकी भाभी ही नोटिस नही करतीं, पर वहाँ.....
मेरे मित्र त्यागराजनजी बहुत सीधे, सरल ह्रदय और खुशदिल इंसान हैं। किसी पर भी शक, शुबहा करना उन्होंने तो जैसे सीखा ही नहीं है। अक्सर हम संध्या समय चाय-बिस्कुट के साथ अपने सुख-दुख बांटते हुए दुनिया जहान को सम...
ओ माय गौड़ ! स्वार्थी जन आपको खूब अलंकारते है, ऊपर वाला, भगवान्, ईश्वर, अल्हा, रब, खुदा और न जाने किन-किन नामों से पुकारते है! यों तो बेशक आप होनहार हो, इस दुनिया के पालनहार हो, खूब लुटाते हो अपने भक्तों पर, ...
“सिवईं खायें! ईद मनाएँ!!” (श्रीमती अमर भारती)
ईद के मुबारक मौके पर हमने भी सिंवई बनाई!* *-:सामग्री:- * *भुनी हुई बारीक सिंवईं- 100ग्राम बादाम गिरी- 25 ग्राम काजू- 25 ग्राम किशमिश- 25 ग्राम छुहारा- 25 ग्राम मखाने- 15 ग्राम दूध- 2 लीटर** 
हम इन शहीदों को नमन करते हैं ...
बाहरी दिल्ली के अलीपुर में ये स्मारक सालों से बदहाल पडा हैं इसकी कोई सुध नही ले रहा था ..इसमें जंगली घास उगी हैं ..कूड़े ये डेर हैं .दरअसल अठारह सो सत्त्वान कि कि क्रान्ति में इस इलाके में अग्रेजों ने ...
मोबाईल फोन द्वारा हिन्दी एस एम एस (SMS) लिखने, पढने और हिन्दी ब्लॉग्स पढने, ट्विटर, फेसबुक आदि सोशल नेटवर्क अपडेट करने, ईमेल लिखने, पढने के लिये बढिया और सस्ते तीन फोन बता रहा हूँ। दाम आज की तारिख के अनुसा...
 अच्छा तो हम चलते हैं
कल फिर मिलेंगे

4 comments:

ajit gupta September 17, 2010 at 8:11 PM  

चौपाल की वार्ता सफल रही, बधाई और आभार।

पी.सी.गोदियाल September 17, 2010 at 9:07 PM  

उम्दा चौपाल वार्ता के लिए आभार राजकुमार जी !

वन्दना September 17, 2010 at 9:41 PM  

सुन्दर चौपाल सजाई है।

Post a Comment

About This Blog

Blog Archive

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP