Powered by Blogger.

लाइफ़ का उलटा प्लान, अपने अपनों को रेवडी कैसे बांटे?- ब्लाग चौपाल- राजकुमार ग्वालानी

>> Tuesday, September 21, 2010

 सभी को नमस्कार करता है आपका राज
आज अपने एक पुराने पत्रकार मित्र आशुतोष मिश्रा के ब्लाग पर नजरें पड़ीं तो हमने उनकी पोस्ट को भी चौपाल में शामिल कर लिया। हमें इसके पहले वास्तव में यह मालूम नहीं था कि आशु भी ब्लाग लिखते हैं। बहरहाल चलते हैं आज की चौपाल की तरफ...
टाटा इंडीकॉम की आजकल एक एड आती है...लाइफ का उलटा प्लान...जिसमें बताया जाता है कि लोकल कॉल से भी एसटीडी करना सस्ता है उलटे प्लान में... अब जानिए *मक्खन का बनाया करियर का उलटा प्लान...* *अगर कोई ए ग्रेड स...
 
ताऊ महाराज धृतराष्ट्र और ताई महारानी गांधारी के बारे में आप अथ: श्री ताऊभारत कथा महाराज ताऊ धृतराष्ट्र द्वारा गधा सम्मेलन 2010 आहूत और ताई गांधारी कोपभवन में, गधा सम्मेलन खतरे मे, ताऊ धृतराष्ट्र ने मांगी...
 
सोनी टीवी में कल रात को इंटरटेनमेंट के लिए कुछ भी करेगा नामक एक कार्यक्रम में अंतत: अन्नु मलिक का पानी एक लड़की ने उतार दिया। तीन लड़कियों की कला पर एक मिनट में ही विराम लगाने के बाद इनमें से एक लड़की नारा...
 
देसिल बयना-48 गयी बात बहू के हाथ करण समस्तीपुरी मार बढ़नी.... ई परव-तिहार के.... ! बाप रे बाप ! दम धरे का भी फुरसत नहीं मिल रहा है। हाह...चलिए कौनो तरह सब व्यवस्था-बात हो गया। अब निकले हैं न्योत-हकार ...
 
जर्मनी के कोलोन शहर में दुनिया का सबसे बड़ा फोटो मेला 'फोटोकीना' आज से शुरू हो गया है. यह मेला छह दिन तक चलेगा. पिछले साल जर्मनी में करीब 85 लाख कैमरे बिके थे. छह दिन तक चलने वाले फोटोकीना मेले में 45 द...
 
इन दिनों देश में वातावरण संशय भरा दिख रहा है। कोई अयोध्या को लेकर भयग्रस्त है तो कोई आतंकी हमलों को लेकर परेशान है। इस परेशानी में हम भी रहे। हमारी परेशानी इन सब बातों को लेकर नहीं रही वरन् समस्या इस बात 

पेश है एक छोटी सी पोस्ट।पोस्ट क्या है एक मज़ेदार पहेली है जो आपके दिमाग के पेंच ढीले कर देगी।सवाल दिल का है मगर जवाब दिमाग से दिजिये।दिल के आपरेशन को बायपास क्यों कहते हैं?सोचिये।सोचिये।नही समझ मे आ रहा है ...
 
१- लो उठाओ दोने-कुल्हड़, ले जाओ पत्तलें फिर न कहना कि हमको बासन* नहीं मिलता छक कर था खाया मुखिया के बेटे की शादी में अब अफसर से कह रहे हो राशन नहीं मिलता. आये हो हमारे द्वारे तो देहरी पे 
 
कहा था यूँ कि अब जँचती हैं.. तुम्हारी.. कजरारी आँखें पर सच काली नहीं हैं मेरी आँखें , बस राख बन गयी हैं कुछ ख्वाहिशें ... 
 
आप भी सोच रहे होंगे अजीब खब्ती आदमी है ,जब लोग बाग़ फैसले की आख़िरी घड़ी का दम साधे इंतज़ार कर रहे हैं तो इसे साबुन जैसी तुच्छ चीज सूझ रही है ...मैं समझता हूँ (अपनी अल्प बुद्धि से ) कि बड़े बड़े मसलों/मसायल...
 
बहुत दिनों के बाद फिर हाज़िर हूँ आपकी अदालत में. आज ही एक नई ग़ज़ल कही है. सो, आपकी सेवा में प्रस्तुत है. देखें..शायद एकाध शेर पसंद आ जाये..सौभाग्य होगा मेरा.* *गुस्सा कम हो प्यार **जियादा* *सुन्दर हो संस...
 
मेरा संपादक हमेशा चाहता था कि मैं दुनिया के सामने आऊं मगर अब कोई इच्छा बाकी नहीं थी इसलिए चाहता था कि अपने लेखन से कुछ ऐसा कर जाऊं ताकि कुछ लोगों का जीवन बदल जाए . बस यही मेरी ज़िन्दगी की सारी हकीकत है ...
 
विश्‍वभर में सभी धर्म की स्‍थापना लोगों में उदारता विकसित करने के लिए ही हुई है। दुनिया के सभी धर्मों का उदय पशु को मनुष्‍य बनाने के लिए हुआ है , इसलिए उसमें जीवन जीने से संबंधित एक एक बात की चर्चा है , पर...
 
आदरणीय बन्‍धु आपके अपने संस्‍कृत ब्‍लाग संस्‍कृतम्-भारतस्‍य जीवनम् पर ज्‍योतिषाचार्य जी ने ज्‍योतिष के सर्वप्रमुख एवं मूलभूत सिद्धान्‍त दिये हैं । जाल ज्योतिषं उपर्युक्‍त लिंक पर आघात करके आप भी जान...
 
शीना ने माथे पर हाथ लगा कर देखा..."बुखार तो नहीं है...फिर क्या हुआ" "पता नहीं यार....नॉट फिलिंग वेल.....हैविंग सिव्हियर हेडेक ....आज ऑफिस नहीं जाउंगी " "ओह!!..चलो कोई नहीं..तुम आराम करो..." और शीना तौलिया ...
 
मनुष्यों की आत्मा के लिए शुभ और अशुभ ये दोनों ही फल बाधक बताये गए हैं . निरंतर शुभ फलों का रसास्वादन करते करते आदमी में कर्तापन का अभिमान होने लगता है . यदि आदमी का भाग्य अच्छा होता है तो उसके छूने मात्र स...
 
आशुतोष मिश्रा पूछ रहे हैं- क्या हो रहा है छत्तीसगढ़ में …???
आपको शायद मेरा यह कहना अच्छा न लगे कि छत्तीसगढ़ पिछले कुछ सालों से माफ़िया की गिरफ़्त में है । यहाँ सत्ता के संरक्षण में भू-माफ़िया , अनाज माफ़िया , कपड़ा व्यापार माफ़िया , जंगल माफ़िया सक्रिय नहीं बल्कि ...
 
प्रदेश के दमदार माने जाने वाले मंत्री बृजमोहन अग्रवाल के भाई योगेश अग्रवाल और उसके साथी सुनील तिवारी को यहां कवर्धा में स्थानीय लोगों ने जमकर पिटाई की। लात-घूसों के अलावा डंडा व बेल्ट का भी उपयोग हुआ। बाल खी...
 
 
 
 
 
 
  अच्छा तो हम चलते हैं
कल फिर मिलेंगे
 
 
 
 
 
 
 
 
 

11 comments:

ललित शर्मा September 21, 2010 at 8:18 PM  

सुबह सबेरे सुनाता सब ब्लोगों का हाल
चर्चा करता सबकी है ये ब्लॉग चौपाल

संगीता पुरी September 21, 2010 at 8:33 PM  

बहुत अच्‍छे अच्‍छे लिंक्स .. आभार !!

राजकुमार ग्वालानी September 21, 2010 at 8:46 PM  

ललिज जी रायपुर आते हो चले जाते हो
वादे की रस-मलाई खाने क्यों नहीं आते हो

राजकुमार ग्वालानी September 21, 2010 at 8:48 PM  

ललिज (छमा चाहते हुए) ललिज जी नहीं ललित जी रायपुर आते हो चले जाते हो
वादे की रस-मलाई खाने क्यों नहीं आते हो

राम त्यागी September 21, 2010 at 9:30 PM  

बढ़िया रही ये चर्चा भी

संगीता स्वरुप ( गीत ) September 21, 2010 at 10:30 PM  

बहुत बढ़िया चौपाल ...आभार

ओशो रजनीश September 21, 2010 at 10:35 PM  

बढ़िया लिंक दिए है ....धन्यवाद

यहाँ भी आये एवं कुछ कहे :-
समझे गायत्री मन्त्र का सही अर्थ

मनोज कुमार September 22, 2010 at 2:43 AM  

बहुत अच्छी चर्चा। अच्छे लिंक्स। हमारे ब्लोग को सम्मान देने के लिए आभार!

वन्दना September 22, 2010 at 4:09 AM  

आज तो काफ़ी लिंक्स लगाये और काफ़ी लिंक्स पर जाना भी हुआ…………सार्थक चर्चा लगाई है।

दीपक 'मशाल' September 22, 2010 at 6:34 AM  

अच्छे लिंक्स.. कुछ पढ़े कुछ संचित कर लिए सर.. आभार..

Post a Comment

About This Blog

Blog Archive

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP