Powered by Blogger.

ब्लॉगवाणी' विलुप्त हुई, पोर्नोग्राफी से औरत का सम्मान घटा-ब्लाग चौपाल- राजकुमार ग्वालानी

>> Saturday, June 26, 2010

सभी को नमस्कार करता है आपका राज
रविवार की छुट्टी में किस ब्लाग ने क्या परोसा है 
देखें सबको अपनी-अपनी पोस्ट पर भरोसा है
वैसे तो ये दुनिया ही एक धोखा है
फिर भी सबको किसी ने किसी पर भरोसा है

पोर्नोग्राफी के सवाल पर जब भी बहस होती है तो वह नैतिक-अनैतिक ,शुभ-अशुभ, पाप-पुण्य में वर्गीकृत करके होती है। पोर्नोग्राफी के सामाजिक-सांस्कृतिक प्रभावों को हमें इन सब केटेगरी के पार जाकर पेशेवर व्...
 
कस्‍बे के पसराव* से बहुत दूर, जाने किस उजाड़ वीराने में ऊंचे तंबुओं के डेरे तने थे, ढलती सांझ के धुंधलके में नीली, पीली, लाल रौशनियों के लट्टू दिखते. देखनेवाली आंखों को भरम होता सपने में दिखी होंगी, नज़...
वो जश्न वो रतजगे वो रंगीनियाँ कहाँ आये निकल वतन से हम भी यहाँ कहाँ महबूब मेरा चाँद मेरा हमनवां कहाँ इस बेहुनर शहर में कोई कद्रदां कहाँ कोई बुतखाना,परीखाना कोई मैक़दा नहीं ढूँढें इन्हें कहाँ और अब जाए...
(1) *'ब्लॉगवाणी' विलुप्त हुई, लग नही रहा, हरा भरा सा* आज कलम(मेरी कलम) कुंठित हुई , लिख न पा रहा, जरा सा. (2 ) ड्राइंग रूम में बैठ कर देखने लगा दूर दर्शन कार्यक्रम चल रहा था जिसमे बच्चों का नृत्य प्रदर... 
अशोक बजाज की- माँ
माँ जो मस्ती आँखों में है मदिरालय में नहीं ; अमीरी दिल की कोई महालय में नहीं ; शीतलता पाने के लिए कहाँ भटकता है मानव ; जो माँ की गोद में है वह हिमालय में नहीं ; -(अज्ञात) 
साल-2018...जगह-लखनऊ से 58 किलोमीटर दूर हसनपुर में अमेरिकन न्युक्लियर पावर प्लांट। एक तेज़ धमाका। फिर कुछ और धमाके। उसके बाद क्या, कहां, कैसे, क्यूं जैसे कुछ बेमानी से सवाल...अमेरिकन कंपनी पर 500 करोड़ का 
स्वप्न किसके सच हुए हैं ! रो न पागल क्या क्षणिक सुख से अपरिमित दुःख मुए हैं ! स्वप्न किसके सच हुए हैं ! भाव उर के बूँद बनने को मचल सहसा पड़े हैं, नयन शाश्वत बरसने को मेघ बन करके अड़े हैं, जल उठी है आग उर में ...
कथा का एक खंड--परिकथा ! ---कोसी मैया की कथा ? जै कोसका महारानी की जै ! परिव्याप्त परती की और सजल दृष्टि से देखकर वह मन-ही-मन अपने गुरु को सुमरेगा, फिर कान पर हाथ रखकर शुरू करेगा मंगलाचरण जिसे वह बंदौनी कह...
मनोज कुमार* आप पढ चुके हैं गंगावतरण भाग –१ गंगावतरण भाग –२ गंगावतरण भाग –३ अब आगे … समापन किस्त भगीरथ घर छोड़कर हिमालय के क्षेत्र में आए। इन्‍द्र की स्‍तुति की। इन्‍द्र को अपना उद्देश्‍य बत...
 
रूआबांधा भिलाई की एक श्रमिक बस्ती में रहने वाली पंडवानी गायिका ऋतु वर्मा से हर कला मर्मज्ञ भली-भांति परिचित है। मुफलिसी और अभाव का जीवन जीने के बाद भी ऋतु ने वेदमती शाखा की पंडवानी को एक नई ऊंचाई प्रदान क...
तितली रानी तितली रानी ॥ बड़ी सयानी लगती हो॥ मै तो तेरे पास हूँ आती॥ तुम तो दूर को भगती हो॥ पूर्व दिशा से आई हो॥ पश्चिम दिशा को जाओ गी॥ बहुत दिनों से भूखी लगती॥ लगता है कुछ खाओगी॥ तेरे पंख 
नवीन प्रकाश बता रहे हैं- विंडोज 7 की सभी सेटिंग्स एक ही जगह पर
 
एक टूल जो आपके विंडोज 7 की सेटिंग तक पहुँच को आसान बना देगा इस एक सॉफ्टवेयर से आप सभी जरुरी सेटिंग्स तक जा सकते है बस कुछ ही क्लिक से । इसे डेस्कटॉप पर रखिये और जिस भी विकल्प का प्रयोग करना चाहे इस एक ही ...
नींद उड़ जाती है जब जिक्र तेरा होता है। अकेला जब होता है दिल, बहुत रोता है। उदास रातों मे अक्सर नजर आता है तू, ये हादसा क्यूँ बार बार, मेरे संग होता है। कौन देगा जवाब अब ,मेरे सवालों का, तू अब चैन स..
हाँ!…मैंने भी ‘बलात्कार' किया है -राजीव तनेजा
हाँ!…मैंने भी *‘बलात्कार'* किया…किया है उसका …जो जगत जननी है …जीवन दायनी है…लाखों-करोड़ों की संगिनी है … खुद मेरी भी अपनी है … मैं ताकता हूँ हर उस ऊंचाई की तरफ…हर उस उपलब्धि की तरफ …जो मुझे खींच ले जाए ...
ताऊ पहेली - 80
प्रिय बहणों और भाईयों, भतिजो और भतीजियों सबको शनीवार सबेरे की घणी राम राम. ताऊ पहेली *अंक 80 *में मैं ताऊ रामपुरिया, सह आयोजक सु. अल्पना वर्मा के साथ आपका हार्दिक स्वागत करता हूं. जैसा कि आप जानते ही हैं क..
 अच्छा तो हम चलते हैं
कल फिर मिलेंगे

8 comments:

राजकुमार सोनी June 26, 2010 at 7:34 PM  

राजकुमार भाई शानदार और जानदार चर्चा के लिए आपका आभार। यूं ही लगे रहे एक दिन आपको आपकी मेहनत का फल जरूर मिलेगा। बधाई।

शिवम् मिश्रा June 26, 2010 at 7:44 PM  

शानदार चर्चा, आभार।

निर्मला कपिला June 26, 2010 at 7:51 PM  

ांच्छी लगी ये चर्चा। धन्यवाद।

मनोज कुमार June 26, 2010 at 8:58 PM  

विस्तृत चर्चा। अच्छे लिंक्स मिले।

संगीता स्वरुप ( गीत ) June 26, 2010 at 10:20 PM  

बढ़िया चौपाल सजाई है ...आभार

Ratan Singh Shekhawat June 26, 2010 at 10:47 PM  

शानदार चर्चा

girish pankaj June 27, 2010 at 6:39 AM  

शानदार और जानदार चर्चा...

राम त्यागी June 27, 2010 at 5:06 PM  

जारी रखिये प्रयास !!

Post a Comment

About This Blog

Blog Archive

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP