Powered by Blogger.

जिंदगी कभी हंसाती है-कभी रूलाती है-ब्लाग चौपाल- राजकुमार ग्वालानी

>> Monday, October 11, 2010

सभी को नमस्कार करता है आपका राज
वास्तव में जिंदगी उतनी आसान नहीं है जितनी लगती है। यह हर कदम पर नए-नए रंग दिखाती है, कभी अचानक हंसाती है, तो कभी रूलाती है। ..... 
 
छेड़छाड़ की समस्या हमारे समाज की एक गम्भीर समस्या है. इसके बारे में बातें बहुत होती हैं, परन्तु इसके कारणों को लेकर गम्भीर बहस नहीं हुयी है. अक्सर इसको लेकर महिलाएँ पुरुषों पर दोषारोपण करती रहती हैं और पु...
 
सरकार ने ग्रामीण खिलाडिय़ों के लिए पायका योजना बनाई है। पहले यह योजना ग्रामीण खेलों के नाम से चलती थी। इस योजना में विकासखंड स्तर से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक होने वाली स्पर्धाओं में ग्रामीण खिलाडिय़ों को ही र...
 
व्यंग्य कविता --- सन्देश का प्रभाव ------------------------------------ सड़क पर पड़े घायल को देख कर कतरा कर, आँखें बचाकर निकलते लोग। याद आता है मानवता का संदेश पर.... सहायता के लिए बढ़े कदमों को, विच..

कल आनंद सिंह जी के एक नए ब्‍लॉग* क्रांतिकारी विचार *में एक कविता पढने को मिली , जिसमें उन्‍होने ईश्‍वर की सत्‍ता में यकीन रखनेवाले मित्रों से एक अपील की थी ...... उनसे पूछना कि जब हीरोशिमा और नागासाकी पर ...
 
भाग 1 , भाग 2, भाग 3, भाग 4, भाग 5, भाग 6, भाग 7, भाग 8, भाग 9, भाग 10, भाग 11, भाग 12, भाग 13,भाग 14, भाग 15, भाग 16, भाग 17, भाग 18, भाग 19, भाग 20, भाग 21, भाग 22, भाग 23, भाग 24, भाग 25*,* भाग 26*,* भा...
 
नमस्कार , फिर हाज़िर हूँ आपके समक्ष मंगलवार को चर्चा-मंच पर काव्य-धारा बहाने के लिए ..इस काव्य धारा में डूबिये - उतरिये और सराबोर हो जाइये ..आज कल हर जगह नवरात्रि -पर्व मनाया जा रहा है …और कोलकता में तो य...
 
लघुकथा पहरा श्याम सुन्दर चौधरी़ सिपाही ने मेज पर चाय से भरे दोनों कप को रखा तो उन दोनों की बातों का तारतम्य एकाएक टूट गया। वे दोनों किसी मृतक के सम्बन्ध में बातें कर रहे थे। सिपाही के जाते ही इन्सपेक्...
 
नमस्कार मित्रों, घरेलु कार्यों में व्यस्त होने के कारण ब्लाग4वार्ता पर नहीं आ सका था। आज से निरंतरता बनी रहेगी। अब चलते हैं आज की ब्लॉग4वार्ता पर...... सबसे पहले चिट्ठा लेते हैं अमरेन्द्र त्रिपाठी का इनको ...
 
प्रिय भाईयो और बहणों, भतीजों और भतीजियों आप सबको घणी रामराम ! हम आपकी सेवा में हाजिर हैं ताऊ पहेली 95 का जवाब लेकर. कल की ताऊ पहेली का सही उत्तर है Chettinad Palace/Chettinadu mansion,Sivaganga district-Ta...
 
छठी डबल सेंचुरी से केवल 9 रन दूर * ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बेंगलुरु टेस्ट में सचिन तेंदुलकर का बल्ला खूब बरस रहा है। तीसरे दिन का खेल खत्म होने पर सचिन 191 रन और धोनी 11 रन बना कर डटे हुए हैं। तीसरे दिन ...
 
वृत्त
वृत्त एक वृत्त जिसकी त्रिज्या परिधि और व्यास सतत गतिशील हैं कभी फैल जाते हैं अनंत दिशाओं तक कभी सिमट कर समाहित जाते हैं केंद्र बिंदु में ये एक चमत्कारिक और अभिमंत्रित वृत्त है अपने ही माथे पे...
 
पहले ज़ख्म दिया करते हैं फिर थोड़ा मुसकाते हैं* *ऐसे ही कुछ लोग यहाँ केवल शैतान कहाते हैं* *अपने दुर्गुण देख न पाए कोस रहे हैं दुनिया को* *ऐसे ही नाकारे इक दिन मिटटी में मिल जाते हैं.* * * *तन से वह तो होगा...
 
ये दुनिया भी कितनी रंगबिरंगी , अजीबोगरीब व विचित्र किस्म की है समझ से परे है । अब वो चाहे हमारे देश भारत की बात हो या अन्य किसी देश - विदेश की , लोग आए दिन ऎसे - ऎसे कारनामे कर दिखाते हैं कि उनकी कारगुजार...
 
परसों आने का वादा करके मोहे भूल गए साँवरिया बातों का भुलावा दे गए मोहन करके कितनी चिरोरियाँ मोहे भूल गए साँवरिया छवि दिखला के अपना बनाकर भुलावा दे गए प्रीतम दिखा के अपनी सुरतिया मोहे भूल गए साँव...
 
कुछ कहानियाँ ज़ेहन में चल रही हैं...बस उन्हें शब्दों में ढालने का समय नहीं मिल पा रहा....पर ये कहानी भी आप सबों के लिए नई ही होगी...यह मेरे ब्लॉग की पहली पोस्ट थी और इसे मैने आकशवाणी के लिए भी पढ़ा था. उसी ...
 
 
 
 
 
अच्छा तो हम चलते हैं
कल फिर मिलेंगे
 
 
 
 
 
 

4 comments:

अशोक बजाज October 11, 2010 at 8:41 PM  

बेहतरीन लिंक्स के लिए आभार .

वन्दना October 11, 2010 at 11:58 PM  

बहुत सुन्दर लिन्क्स के साथ चौपाल सजाई है।

Post a Comment

About This Blog

Blog Archive

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP