Powered by Blogger.

टूटे घरौंदे, दिल्ली से गाँव तक -ब्लाग चौपाल- राजकुमार ग्वालानी

>> Saturday, October 30, 2010

सभी को नमस्कार करता है आपका राज
 
 
अंदाज उनका कैसे बिन्दास हो गया महफिल में आम कलतक वो खास हो गया जिसे कैद में होना था संसद चले गए, क्या चाल सियासत की आभास हो गया रुकते ही कदम जिन्दगी मौत हो गयी प्रतिभा जो होश में थी क्यों आज सो गयी कल पीढ़ि...
 
छत्तीसगढ़ में राज्योत्सव ने नाम पर हर साल कामनवेल्थ जैसा भ्रष्टाचार किया जाता है, पर इसके खिलाफ बोलने वाला कोई नहीं है। विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने कभी इस तरफ ध्यान देने की जरूरत ही नहीं समझी। कारण साफ है 
 
आज देखिये समय पर समय निकल गया तो यू ट्यूब पर खोज कर किस्‍तों में देख पायें लगता है कि फिर आनंद उतना नहीं उठा पायेंगे। इसे सुन जायें भली बातों को अपनायें सबको बतलायें हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग में सार्थक करें और...
 
छत्तीसगढ़ राज्य वह दृश्य अभी भी आँखों से ओझल नहीं हो पाया है जब 31 अक्टूबर 2000 को घड़ी की सुई ने रात के 12 बजने का संकेत दिया तो चारों तरफ खुशी और उल्लास का वातावरण बन गया। लोग मस्ती में झूमते- नाचते एक ...
 
जब मन की गहनतम गहराई से फूटती व्याकुल, सुरीली, भावभीनी आवाज़ को हवा के पंखों पर सवार कर मैंने तुम्हारा नाम लेकर तुम्हें पुकारा था ! लेकिन मेरी वह पुकार वादियों में दूर दूर तक ध्वनित प्रतिध्वनित होकर 
 
मैं बाबा रामदेव को प्यार करता हूँ। मोहन भागवत को भी प्यार करता हूँ।मदर टेरेसा, सोनिया गांधी,मनमोहन सिंह,प्रकाश कारात को भी प्यार करता हूँ। वैसे ही हिन्दुस्तान के हिन्दुओं, ईसाईयों, सिखों,...
 
किसी ने तो पशु खाया आप ने क्या किया ??* *आज दिल ने कहा की एक और सच बात आप सब से सांझी की जाए |* *मेरा शहर उत्तरप्रदेश सीमा से लगता है|* *यहाँ से पशुओं को ले जाया जाता है अर्थार्त पशु तस्करी का बोर्डर ,* 
 
भाषा हो मौन की , एहसास हों ज़िंदगी के व्यवहार में थोड़ी गहराई लाइए भावनाएं हो जाएँ न कहीं दूषित इसलिए मुझे शब्द नहीं चाहिए . 
 
जन्म:1994 मौत:2010 मृत्यु का कारण:परिवार वालों के मुताबिक ऑनर किलिंग अर्थात दबंगों ने असमय गला घोंट कर मार डाला...
 
पिछले दस महीनों से कामनवेल्थ खेलों के "मास्कट" शेरा का रूप धरे सतीश बिदला खेलों के समापन के साथ ही बेरोजगार हो गए हैं। दुबले पतले, शर्मीले स्वभाव वाले बिदला कहते हैं कि शुरू में उन्हें कम्युनिकेशन प्रभाग 
 
नन्हें हांथों का कमाल …
दिवाली आई दिवाली आई , मेरी नन्हीं बिटिया अकुलाई , उसके नन्हें हांथों ने आंगन में देखो एक सुन...
 
मुझे याद है उस दिन मैं बहुत उदास था. परेशानियाँ थीं कि कम होने का नाम ही नहीं ले रहीं थीं. रात हुई तो सोने की कोशिश की पर ऐसे में नींद कहां आती है. सुबह होने को आ रही थी. तीसरा पहर खत्म हुआ तो मैंने 
 
घर से ऑफिस के लिए जब निकलता है आदमी जाने कितनी चीजें भूलता है आदमी घर से ऑफिस तक के सफ़र में दिनचर्या बना लेता है आदमी कौन से जरूरी काम पहले करने हैं कौन सी फाइल पहले निपटानी है किसका लोन पास करना 
 
१९९७ में बुकर सम्मान विजेता , अरुंधती रॉय ने दिल्ली में एक सेमीनार में कहा की -- " काश्मीर को आज़ादी मिलनी चाहिए , भूखे-नंगे हिंदुस्तान से "। एक साहित्यकार और सामजिक कार्यकर्ता के इस प्रकार के गैरजिम्मेदारा...
 
सोचा आज कुछ निबंध विबंध लिखा जाय ..ऐसे ही बैठे ठाले ....कुछ फुरसत मिल गयी है तो उसका सदुपयोग किया जाय .अब निबंध लिखना है तो कुछ विषय उसय भी चाहिए ही ..दिमाग पर जोर डालने लगा ..कौन सा विषय चुनूं कौन सा छोडू..

पिछले दो महीनों में ज्ञान दर्पण के पाठकों में से छ: पाठकों के फोन आये जिन्होंने अपने न्यूज़ पोर्टल बनवाये थे ओर वे मुझसे से इन पोर्टल्स में और क्या जुड़वाया जा सकता है की सलाह चाह रहे थे | मैंने उन पोर्टल्...
 
मुझे उस पार…. नहीं जाना ………..क्योंकि इस पार …* *मैं तुम्हारी संगिनी हूँ ……..उस पार निस्संग जीवन है* *स्वागत के लिए ……………इस पार मैं सहधर्मिणी कहलाती हूँ ……..मातृत्व सुख से परिपूर्ण हूँ……………….. माता – पिता ह...
 
 
 अच्छा तो हम चलते हैं
कल फिर मिलेंगे
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

2 comments:

संगीता स्वरुप ( गीत ) October 31, 2010 at 3:15 AM  

बहुत बढ़िया चौपाल ...आभार

Sadhana Vaid October 31, 2010 at 5:46 AM  

बहुत मनभावन चौपाल राजकुमार जी ! मेरे ब्लॉग को इसमें सम्मिलित करने के लिये शुक्रिया ! आभार एवं शुभकामनाएं !

Post a Comment

About This Blog

Blog Archive

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP