Powered by Blogger.

दिल की हिफ़ाजत मैं करने लगा हूँ..., पता पूछते हैं लोग -ब्लाग चौपाल- राजकुमार ग्वालानी

>> Sunday, October 24, 2010

सभी को नमस्कार करता है आपका राज
 
 
बस ऐसे ही, दो रोज पहले एक मंच के लिए गीत गुनगुनाया तो सोचा सुनाता चलूँ, शायद पसंद आ जाये. [image: sadsam] जब से बसाया तुझे अपने दिल में, दिल की हिफ़ाजत मैं करने लगा हूँ... नहीं कोई मेरा, दुश्मन जह...
 
पता पूछते हैं लोग [image: photo Gyan] ज्ञानचंद मर्मज्ञ पानी में मछलियों का पता पूछते हैं लोग, आंसू से सिसकियों का पता पूछते हैं लोग ! बारूद के ईमान पर है इतना भरोसा, माचिस की त...
 
छत्तीसगढ में जलावायु परिवर्तन के प्रति चेतना जगाने के लिए रायपुर जिले के समस्त स्कूलों में कार्यक्रम किए गए। अशोक बजाज जी के नेतृत्व में इस कार्यक्रम को अच्छा प्रतिसाद मिला। कार्यक्रम के लिए पहल IASRD के अ...
 
लघुकथा के लिए काम्बोज जी को चंडीगढ़ में सम्मानित किया गया ये हमारे लिए बड़े गर्व की बात है, जिसके लिए वे बधाई के पात्र हैं, मेरे कुँअर परिवार की ओर से काम्बोज जी को हार्दिक बधाई... *23 अक्तुबर चंडीगढ़ *1-...
 
उत्तरी कैरोलिना से सुप्रसिद्ध साहित्यकार आदरणीया डॉ.सुधा ओम ढींगरा जी के सौजन्य से ये रिपोर्ट प्राप्त हुई.. सोचा आप सब साथियों से साझा कर लिया जाए.. भारतीय संस्कृति और सभ्यता के प्रसार का सम्माननीया डॉक्...
 
ब्रह्मांड में कहीं छिपी हुई एक अनजानी दुनिया, जिसका अभी तक पता नहीं है. ये अब तक साइंस फिक्शन लिखने वालों के काम की चीजें रही हैं. लेकिन वैज्ञानिकों को उम्मीद हैं कि अगले साल तक इस सिलसिले म..
 
अपनी बहुत सुना लिए, आज दो दूसरों की (मुझे बहुत बहुत पसन्द हैं): *बुद्धिनाथ मिश्र * एक बार जाल और फेंक रे मछेरे जाने किस मछली में बंधन की चाह हो.... ........ रेत के घरौंदों में सीप के बसेरे इस अंधेर में क...
 
ईर्ष्या एक घातक मानसिक रोग है, इसका उदाहण ब्लॉग-जगत में भी मौजूद है। अब मुझसे ईर्ष्या करने वाले एक अत्यंत बुद्धिजीवी ब्लोगर ने मेरे ही नाम की एक फर्जी 'ZEAL '- ID बनायीं है । जिससे वो हर एक ब्लॉग पर जाकर म...
 
अब से आँखों के आगे पसरे मंज़रों को झुठलाना होगा, कानों को चीरती अप्रिय आवाजों को भुलाना होगा, मन पर पड़ी अवसाद की शिलाओं को सरकाना होगा, दुखों के तराने ज़माने को नहीं भाते कंठ में जोश का स्वर भर कोई मनभाव...
 
 उत्तर प्रदेश में इन दिनों पंचायत चुनावों की धूम है .आज आख़िरी चरण के मतदान के लिए पोलिंग पार्टियां रवाना हो गयी हैं -कल मतदान है .हम सरकारी मुलाजिमों की हालत हलकान है ..पिछले डेढ़ माह से हम निर्वाचन आयोग के...
 
चंद्रपुर चंद्रहासिनी देवी के समक्ष बलि दिए जाने का पुरजोर विरोध फिर हुआ। बरसों से चली आ रही बलि प्रथा की खिलाफत कुछ वर्षों से होने लगी है। नवरात्री में देवी के समक्ष पशु बलि धार्मिक परंपरा और आस्था से जुडी...
 
छत्तीसगढ़ के राज्यपाल श्री शेखर दत्त की उपस्थिति में आज रायपुर के पुलिस परेड मैदान में भारतीय सेना के जवानों ने जमीन से लेकर आसमान तक साहसिक और रोमांचकारी कारनामों का प्रदर्शन किया। छत्तीसग... 
 
आज के दौर में वर्चुअल वर्ल्ड में आई नजदीकियों की हकीकत....... पूरी पोस्ट कृपया यहाँ पढ़ें
 
सैन फ्रांसिस्को*.इंटरनेट सर्च इंजन गूगल इंक. ने मान लिया है कि उसकी ‘स्ट्रीट व्यू’ कारों ने दुनियाभर में हजारों लोगों के निजी आंकड़े जमा कर लिए हैं। इनमें लोगों के पूरे ई-मेल तथा उनके पासवर्ड भी शामिल ...
 
२१ वीं सदी की नारी है हाँ , चैट कर लेती है तो क्या हुआ ? बहुत खरपतवार मिलती है उखाड़ना भी जानती है मगर फिर लगता है बिना खरपतवार के भी आनंद नहीं आता इसलिए साथ- साथ अच्छी फसल के उसे भी झेल लेती है २१ व..
 
 
 
  अच्छा तो हम चलते हैं
कल फिर मिलेंगे
 
 
 
 
 
 
 

7 comments:

ललित शर्मा October 24, 2010 at 8:31 PM  

धांसु ब्लाग चौपाल सजाई है
आभार

राजकुमार ग्वालानी October 24, 2010 at 8:49 PM  

ललित जी,
रायपुर आकर चले जाते हैं, पता भी नहीं चलता
अब तो रस मलाई आपको खिलानी पड़ेगी, अभनपुर से आए तो साथ लेकर आए, पुलिस मैदान में बैठकर खाएंगे

अशोक बजाज October 24, 2010 at 9:25 PM  

अपने ब्लॉग में ग्राम चौपाल का लिंक देने के लिए आभार.

अशोक बजाज October 24, 2010 at 9:30 PM  

२००० पोस्ट के लिए बधाई .

डॉ॰ मोनिका शर्मा October 24, 2010 at 10:57 PM  

हमेशा की तरह अच्छी सजी है चौपाल ....
मेरी पोस्ट ओवर कम्युनिकेशन यानि नॉन कम्युनिकेशन को शामिल करने के लिए .....धन्यवाद

वन्दना October 25, 2010 at 2:04 AM  

काफ़ी लिंक्स मिले……………सुन्दर चौपाल सजाई है………आभार्।

Sadhana Vaid October 25, 2010 at 5:19 AM  

बहुत बढ़िया चौपाल की साज सज्जा है राजकुमार जी ! मेरी रचना का चयन करने के लिये बहुत बहुत शुक्रिया ! अन्य लिंक्स भी सभी चुनिन्दा हैं !

Post a Comment

About This Blog

Blog Archive

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP