Powered by Blogger.

कामनवेल्थ जैसा बजट, बहुत घोटाला है-ब्लाग चौपाल- राजकुमार ग्वालानी

>> Thursday, October 14, 2010

सभी को नमस्कार करता है आपका राज
छत्तीसगढ़ ओलंपिक के आयोजन का बजट कामनवेल्थ के बजट जैसा लगने लगा है। अकेले रायपुर जिले ने ही ३१ खेलों के लिए ४० लाख का प्रस्ताव बना दिया है। अगर रायपुर की तर्ज पर बाकी जिले भी बजट मांगेंगे तो जिले के आयोजन ...

लीजिये दोस्तों ...........अब शुक्रवार की चर्चा भी मैं करने आ गयी हूँ इसलिए एक बार और झेल लीजियेगा .............वैसे एक दिन झेलना ही मुश्किल होता होगा मगर क्या करूँ ............अब तो आपके गले पड़ ही गयी हूँ...
आज दुर्गा अष्टमी है और पश्चिम बंगाल का माहौल एकदम भिन्न है। समूचा प्रांत दुर्गा में डूबा है। जगह-जगह मंडपों में लाखों लोगों की भीड़ लगी है। लोगों की उत्सवधर्मिता का आलम यह है कि कल शाम को अचानक ...
खेलगांव में बंदर महाशय से चैटिंग 2. अथ कॉमनवेल्थ गेम्स चरितम् 
पिछले 12-13 दिनों से चले आ रहे खेलों का समापन भी हो गया। आगाज हुआ तो अन्त भी होना ही था। यह तो अच्छा हुआ कि हम पदकों की दौड़ में शतक लगा बैठे। चित्र गूगल छवियों से साभार घमासान अब होगा अथवा नहीं होगा य...
९ अक्टूबर की सुबह जगदलपुर से राजनांदगांव के लिये निकलते हुए संजीव से बात हुई कि १० को दिन भर पारिवारिक कार्यक्रम में व्यस्त रहूंगा पर ११ अथवा १२ तारीख को पिछली उधारियां चुकाने की ख्वाहिश है ! अगर आप मित्र...
जलवायु परिवर्तन प्रकृति से खिलवाड़ का ही नतीजा : बृजमोहन अग्रवाल *अभियान का मुख्य उद्देश्य बच्चों में पर्यावरण संरक्षण की भावना को संस्कार के रूप में विकसित करना है : अशोक बजाज* ** *जलवायु परिवर्तन रोकने...
कब से इक तमन्ना दिल में दबी हुई थी.. तुम चिंगारी कह रहे हो पूरी आग लगी हुई थी.. *सरदार संपूर्ण सिंह जी* याने गीतों और नज्मों के सरताज सबके दिलों पर राज करने वाले *आदरणीय गुलज़ार साब.*.. एक ऐसी शख्सियत ...
वर्धा का नाम आते ही महात्‍मा गाँधी और विनोबा भावे का स्‍मरण होने लगता है। यह पावन भूमि दोनों ही महापुरुषों की कर्मभूमि रही है। इसी कारण महात्‍मा गाँधी अन्‍तरराष्‍ट्रीय विश्‍वविद्यालय वर्धा में ब्‍लोगिंग पर.
ब्लॉग संसद में आजकल केवल चर्चा की जा रही है; कोई मुद्दा नहीं उठाया जा रहा । इसका अर्थ यह नहीं है कि मुद्दे हैं ही नहीं ; मुद्दे तो हैं , पर उनकी पहचान नहीं हो पा रही । अपने बारे में अगर कहूँ; तो मेरे मन मे...
उस वक़्त में ज्यादा नहीं लगती थी दूरी IIMC के हॉस्टल से पैदल गंगा ढाबा तक की रात के कितने बजे भी क्योंकि जानती थी सड़कों के ख़त्म होने पर दोस्त इंतजार करते होंगे कि सर्द रातों में मिलेगी गर्म कॉफ़ी और उससे...
देखो रे कमाल रे सायना का कमाल रे कोमंवेल्थ मै रच दिया एक नया इतिहास रे वो आज बन गई हिंदुस्तान की शान रे सारी दुनिया कह रही कमाल रे कमाल रे छोटी सायना का नाम ले रहा सारा जहान रे हमारे देश को उसन...
वाएं से जाकिर अली रजनीश,रवीन्द्र प्रभात,एडवोकेट पवन दुग्गल, जय कुमार झा,गायत्री शर्मा,अनूप शुक्ल और प्रियरंजन पालीवाल समापन सत्र के पश्चात फुर्सत के क्षणों में । विश्विद्यालय के कुलपति श्री विभूति नारा...
अभी दशहरा पर्व के दौरान रामलीला कार्यक्रम काफी जोर शोर से चल रहे हैं . जब जब दशहरा का पर्व आता है तो रामलीला में लक्ष्मण शक्ति के दौरान एक घटना ऐसी हुई थी की जिसे सोचकर बार बार मुस्कुरा लेता हूँ . करीब बीस...
  अच्छा तो हम चलते हैं
कल फिर मिलेंगे

2 comments:

वन्दना October 15, 2010 at 12:12 AM  

बहुत सुन्दर चौपाल सजाई है।

Post a Comment

About This Blog

Blog Archive

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP