Powered by Blogger.

आज देर से सजी चौपाल- देखे किस ब्लाग का क्या है हाल-ब्लाग चौपाल- राजकुमार ग्वालानी

>> Monday, November 1, 2010

सभी को नमस्कार करता है आपका राज  
 
इंटरनेट की खराबी के कारण हम सुबह को चौपाल नहीं सजा पाए। दोपहर में नेट ठीक होते ही समय निकाल कर आपके सामने चौपाल सजाने का काम किया है, ताकि इसकी निरंतरता कायम रहे।
 
 
जब पूछो किसी से दोस्ती के बारे में बड़ा सरल जबाव होता है उसका अरे दोस्ती का क्या वह तो हो ही जाती है ,की नहीं जाती | जब मेरा या उसका काम अटकता है हम बन ही जाते हैं दोस्त और जब हम बेकार होते है दोस..
 
इंटरनेट में खराबी के कारण हम सुबह की पोस्ट लगा ही नहीं पाए। इसी के साथ हम सुबह को ब्लाग चौपाल भी नहीं सजा पाए। लेकिन अभी-अभी नेट ठीक करवाने के बाद पोस्ट लिखने बैठे हैं। इस पोस्ट के बाद ब्लाग चौपाल भी सजाने...
 
बेचैनियों की लदर-फदर रेल उड़ी जाती धम्म–धडाम. कहीं एक औरत चीख़ती किसी के बक्सा छूटता, बच्चा कोई रोये चला जाता एक साहब गालियां बके, पैर के बोझ और माथे के रोश में समझ सकने का सुभीता न होता कि भीड़ में एक म...
 
"ओ...बड़े दिनों में….खुशी का दिन आया.... ओ...बड़े दिनों में…खुशी का दिन आया.... आज मुझे कोई ना रोके... बतलाऊँ कैसे कि मैँने क्या पाया.... ओ …बड़े दिनों में..... "याहू!....वो मारा पापड़ वाले ने"... “क्या...
 
हमारा देश विद्वानों का देश है. पहले विद्वानों के लिए कोई भाषा निर्धारित नहीं थी. कालिदास, चरक, पाणिनी, सूर, तुलसी, मीरा, महात्मा फुले, तुकाराम, शरत, बंकिम, प्रेमचंद, सुब्रमणियम भारती, सभी विद्वान थे. आज के...
 
प्रवक्ता डॉट कॉम ने बहस चलाकर अच्छा काम किया है। मैं इधर-उधर की बातें न करके पहले सिर्फ उस फिनोमिना के बारे में कहना चाहता हूँ। जो पंकज और उनके जैसे लेखकों और युवाओं में घुस आया है। यह नव्य उदार संस्कृ...
 
रीत पुरानी, नया ज़माना दुनिया में. जिस का जैसा ठौर-ठिकाना दुनिया में.. क्या रोना, क्या हँसना-गाना दुनिया में. संघर्षों का दौर पुराना दुनिया में.. सारी दुनिया आँख मूँद कर सुनती है, अंधे बाबा का हर गाना दुनि...
 
राज्य स्थापना की दसवीं वर्षगांठ के अवसर पर दिये जाने वाले 23 सम्‍मानों /पुरस्कारों की घोषणा राज्य शासन ने कर दी है। इसमें 26 लोगों को आज 1 नवंबर को शाम 6.30 बजे साइंस कालेज ग्राउंड में राज्य अलंकरण से सम्...
 
आप सभी पाठकों को संगीता पुरी का नमस्‍कार .. अमेरिका की एलेक्जेंड्रिया मिल्स ने विश्व सुंदरी 2010 का खिताब जीत लिया है। प्रतियोगिता में बोत्सवाना एम्मा वारेस दूसरे और वेनेजुएला की एड्रिआना वसीनी तीसरे स्थान...
 
चलो अच्छा हुआ बातें ख़त्म हुयीं अब दुनियादारी निभाई जाये तुझे चाहते रहने की सज़ा एक बार फिर सुनाई जाये चाहतों की सजायें अजब होती हैं बेगैरत फूलों की तरह चलो एक बार फिर किसी को चाहा जाए कुछ इस तरह ज़िन...
 ग़ज़ल :: ये कैसै रखवाले देख सलिल जी को आभार जिन्होंने इसे ग़ज़ल का रूप देने में हमारी मदद की! ये कैसै रखवाले देख [image: IMG_0130]मनोज कुमार ये कैसे रखवाले देख चेहरे सबके काले देख उठती क्यों आवाज़ नहीं मुँह पर सब...
 
छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के 10 वर्ष पूर्ण होने पर आप सबको बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनायें ... भारत के 26 वें राज्य के रूप में छत्तीसगढ़ राज्य दिनांक 1 नवम्बर 2000 को अस्तित्व में आया .नए राज्य का स्थापना दि...
 
इस वीडियो को देखें, अच्छा लगेगा। पसंद भी आएगा। ================================= साभार इसे फेसबुक पर एक प्रोफाइल से लिया है। 
 
क्या हमारे शहर आने वाला खोवा असली है ???
पिछले साल जप्त किया गया नकली खोवा *दिवाली आ गई । शहर की मिठाई दुकानों में हजारों किलो मिठाइयों के आर्डर हैं , बिना आर्डर के भी हजारों किलो मिठाइयाँ बिकनी हैं ।समूचे प्रदेश में लाखों किलो मिठाइयाँ बिकतीं ...
 
 
अच्छा तो हम चलते हैं
कल फिर मिलेंगे 
 
 
 
 
 
 
 
 

4 comments:

वन्दना November 1, 2010 at 3:45 AM  

देर से ही सही मगर चौपाल का रंग आज भी उतना ही सुन्दर है।

संगीता स्वरुप ( गीत ) November 1, 2010 at 6:15 AM  

बढ़िया चौपाल ..अच्छे लिंक्स मिले.

अशोक बजाज November 1, 2010 at 10:04 AM  

आज चौपाल में अच्छे लिंक्स मिले , धन्यवाद .

डॉ॰ मोनिका शर्मा November 1, 2010 at 10:15 AM  

der se bhale hi saji...par links hamesha ki tarah
achhe mile... dhanywad

Post a Comment

About This Blog

Blog Archive

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP