Powered by Blogger.

सुन सुन मोर मया पीरा के संगवारी- देवउठनी यानी छोटी दिवाली- ब्लाग चौपाल- राजकुमार ग्वालानी

>> Tuesday, November 16, 2010

सभी को नमस्कार करता है आपका राज


विश्व कप क्रिकेट में खेलने वाली कनाडा की जो टीम छत्तीसगढ़ की टीम से मैच खेलने के लिए रायपुर आ रही है उस टीम के कप्तान भारतीय मूल के आशीष बगई हैं। कनाडा की टीम में आशीष के साथ तीन और खिलाड़ी भारतीय मूल के ...
 
लगता है कि राजा का मामला केवल द्रमुक पर छोड़े जाने के कारण अब प्रधानमंत्री को बहुत कुछ ऐसा भी सुनना पड़ेगा जो उन्हें असहज कर सकता है. देश में बहुत सारे कानून हैं और कुछ स्थानों पर कानूनों की व्याख्या को सीम...
 
"प्रदुषण धीमे जहर की भांति शनै शनै पर्यावरण को दूषित कर रहा है जो मानव प्रजाति व पृथ्वी के लिए सदा सदा के लिए अहितकर है।" आचार्य उदय 
 
मैं अपनी पिछली कई पोस्ट में लिख चुका हूँ कि भारत में शोध पर बहुत कम पैसा खर्च किया जाता है और उसका असर इस बात से ही दिखता है कि हम उच्च तकनीक की प्रणाली के लिए, रक्षा उपकरणों के लिए और बड़ी परियोजनाओं के ...
 
अभिज्ञात: वापसी वापसी नहीं होती..: "साभारः सखी, नवम्बर 2010 कहानी उन्हें वापसी का इन्तज़ार था। हालांकि वे बहुत गहरे अर्थों में इतनी ज़ल्दी वापसी भी नहीं चाहते थे। वे चाहते थे अ..." सारांश यहाँ आगे पढ़ें के आ...
 
आज कार्तिक शुक्ल एकादशी है यानी देवउठनी एकादशी है. ऎसी मान्यता है कि आषाढ शुक्ल एकादशी से सोये हुये देवताओं के जागने का यह दिन है . देवताओं के जागते ही समस्त प्रकार के शुभ कार्य करने का सिलसिला शुर...
 
ज़िन्दगी दो अल्फाजों में सिमट आती है आह तेरे नाम से जब भी निकल आती है दौर-ए-उल्फत में बहके होंगे कदम हमारे अब तो तेरी हर बात संजीदा नज़र आती है कैसे रखते हैं लोग दिल में हसरतें हज़ार इक आरज़ू में तेरी ये उ...
 
छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना के दस वर्ष पूरे होने के अवसर पर दूसरी छत्तीसगढ़ी फिल्म ‘घर द्वार’ के निर्माता ‘स्व.विजय कुमार पाण्डेय’ के सुपुत्र और ‘घर द्वार कला संघ’ के निर्देशक श्री जयप्रकाश पाण्डेय से हमें आप ...
 
दोस्तों कल इदुज्ज़ुहा यानि बकराईद हे आज बोहरा समाज की बकराईद थी , कुर्बानी का यह त्यौहार विश्व में खुदा की राह यानी अमन चेन और सेवा कार्यों के लियें सब कुछ कुर्बान कर देने की सीख देता हे , इस त्यौहार के एक...
 
ज्ञानार्थयोग इति चेन्न हि तत्प्रवृत्तेः प्रागेव तस्य पुरुषे परिकल्पितत्वात् । अन्योऽपि योग इह कश्चन दुर्निरूपो मानेन यो भवति चिज्जडयोर्मते वः ॥७१॥ अज्ञातताभिभवनं फलमित्यपीदं रिक्तं वचश्चि...
 
वह बादल हूं मैं*** *जो आसमान में अकेला, अवारा है.*** *मेरे कोई पंख नहीं है *** *फ़िर भी मैं भटकता रहता हूं,*** *जरुरतमंदो की तलाश में.*** *कहीं कहीं भू ऐसे है*** *जहां है पर्याप्त जल*** *नही...
 
बहुत दिनों के बाद फिर हाज़िर हूँ: एक नई ग़ज़ल के साथ. वैसे ग़ज़ल तो ग़ज़ल होती है. जो पुरानी पड़ जाये वो ग़ज़ल नहीं हो सकती. ग़ज़ल सदाबहार होनी चाहिए. मेरी कोशिश इसी तरह का कुछ लिखने की होती है. इस प्रयास में सफल न...
 
दिल करता है अब हम रो दें, बाँध तोड़ दें, जंहाँ डुबो दें | चीख चीख कर सबसे कह दें, बस बहुत हुआ, अब और नहीं | रिश्ते इंसानों के और नहीं | ये वो इंसान हैं, जो लड़ते हैं, जाति धरम पर, क्रिया करम पर, सच्चे झूठे म...
 
आम लोगों में तीखी प्रतिक्रिया...  वैसे तो भाजपा पर व्यापारियों की सरकार का आरोप हमेशा लगता रहा है और भाजपा के नेता हमेशा ही इसका खंडन करते रहे हैं लेकिन पिछले दिनों राजनांदगांव के दीपावली मिलन कार्यक्रम में ...
 
 
बार- बार उसे खींच कर उसी ओर ले जाता था और आँखें खुद को रोक ही नहीं पाती थीं उसे निहारने से ..........ना जाने कैसे वो पूजा के मोहपाश में बंधता जा रहा था............ अब आगे ................ यूँ तो पूजा एक...
 
प्यार..................... केसा होता है प्यार ? जो हमेशा दिल की ही सुनता हो क्या वो करता है प्यार ? वो तो कभी ठहरता ही नहीं वो किसी एक से केसे कर सकता है प्यार ? किसी की खूबसूरती तो देखा ...... तो उसके ...
 
हार कर नहीं स्वेच्छा से चेहरे पर हंसी लिए मरना चाहता हूँ मैं आत्महत्या नहीं होगी यह पता है मुझे मेरे जाने के बाद सब कुछ ठीक हो जायेगा बेटियाँ चली जाएँगी ससुराल बेटे व्यस्त हो जायेंगे अपने में पत्..

अच्छा तो हम चलते हैं
कल फिर मिलेंगे
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

1 comments:

वन्दना November 16, 2010 at 10:46 PM  

आज बहुत अच्छे लिंक्स लगाये हैं……………काफ़ी लिंक्स पर हो आई हूँ…………आभार्।

Post a Comment

About This Blog

Blog Archive

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP