Powered by Blogger.

लो मैं आ गया .., लगी आज सावन की फिर वो झड़ी है-ब्लाग चौपाल- राजकुमार ग्वालानी

>> Saturday, August 7, 2010

सभी को नमस्कार करता है आपका राज
 
 
आज छुट्टी का दिन है, देर तक सोते रहे। उठते ही चर्चा करने बैठ गए हैं। चलिए देखते हैं छुट्टी के दिन कौन किस रंग में है....... 
 
सभी मित्रों को प्रणाम विंडो करप्ट और हार्ड डिस्क खल्लास लेकिन हार्ड डिस्क कम्बक्त गारंटी में थी सो कम्प्यूटर वाले ने बदलने भेज दी लगभग दो महीने बाद मिली है अभ्यास छूट गया है लेकिन एक दोहे के साथ अपनी उप...
 
रात के सन्नाटे में बरसते पानी की टिपिर-टिपिर ध्वनि! आंगन में लगी रातरानी के फूलों की भीनी-भीनी सुवास! पड़ोस के घर में चलती हुई टीवी से सुनाई देता गीत - "मनमोर हुआ मतवाऽऽला ये किसने जादू डाला रे..."! दामिनी ...
 
रेक्टर कथूरिया (पंजाब स्क्रीन पर *ब्लॉग से* नामक विषय पर रेक्टर कथूरिया द्वारा बढ़िया ब्लॉग चर्चाएँ हुई हैं. आज की चिट्ठा चर्चा साभार पंजाब स्क्रीन) चर्चा ब्लागों की डाक्टर हरदीप कौर संधू...
 
 
काव्यशास्त्र-27 :: आचार्य पण्डितराज जगन्नाथ* आचार्य परशुराम राय आचार्य पण्डितराज जगन्नाथ आचार्य अप्यय्यदीक्षित के समकालीन थे और दोनों एक-दूसरे के प्रतिद्वन्दी थे। आचार्य अप्यय्यदीक्षित की भाँति ये ...
 
जाति मिटे तो गरीबी हटे* *डॉ. वेदप्रताप वैदिक* * * * * * * * * * * जातीय गणना के इरादे को देश सफल चुनौती दे रहा है| जबसे 'सबल भारत' ने 'मेरी जाति हिंदुस्तानी' आंदोलन छेड़ा है, इसका समर्थन बढ़ता ही...
 
आज, 8 अगस्त को - अमीर धरती गरीब लोग वाले अनिल पुसदकर - मीडिया व्यूह, नीशू के अल्फाज़ वाले नीशू तिवारी - अजब अनोखी दुनिया के चित्र वाले शुभम आर्य का जनमदिन है बधाई व शुभकामनाएँ *आने वाले **जन...
 
लेह लद्दाख में बादल फटने की विनाशकारी घटना ने वहां के निवासियों पर कहर ढाया है.टी वी पर खबरें देख देख कर मन द्रवित हो जाता है. जान -माल का भारी नुकसान होने के बाद वहां के पीड़ित लोगों की दुश्वारी और भी बढ .. 
 
महंगाई डायन और छत्तीसगढ़ इन दिनों फिल्म "पिपली लाईव" की चर्चा जोरों पर है। पत्र-पत्रिकाओं में तो पिपली लाईव पर तरह-तरह के समाचार आ रहे हैं। इलेक्ट्रानिक मिडिया का प्रत्येक चैनल इस पर खबरें बना रहा है।...
 
कई दिनों से बीवी की तबियत दुरुस्त नहीं थी…कई बार उसने मुझसे कहा भी कि… “डॉक्टर के पास ले चलो”…लेकिन मुझे अपने काम-धंधे से फुरसत हो तब ना।हर बार किसी न किसी बहाने से टाल देता| एक दिन बीवी ने...
 
चलो अच्छा हुआ हँसा दिया आज सुबह से हँसी ही नहीं ना जाने कहाँ काफूर हो गयी थी किस कोने में दुबकी पड़ी थी क्या करूँ हँसी आती ही नहीं दिल के गहरे सन्नाटों में खो जाती पता नहीं कौन से सन्नाटे हैं जो ...
 
लिमटी खरे कहते हैं- हिटलरशाही पर उतारू हो गई है कांग्रेस
खेल खेल में अरबों का खेल * *कामन वेल्थ में बह रहा पैसा पानी की तरह * *शिक्षा और अन्य मदों में है नहीं पैसा पर खेल के नाम पर खुल रही पोटलियां * *मनमानी के लिए कर रही है जबरिया अत्याचार
 
गुरूजी गंगा के किनारे बैठकर ध्यान कर रहे थे . आरती होने में काफी समय था तभी दो चार उनके शिष्य आपस में बैठकर व्यर्थ की बकबास कर रहे थे . वे दूसरों की हंसी उड़ा रहे थे और जोर शोर से अन्य लोगों की निंदा कर र...
 
 अच्छा तो हम चलते हैं
कल फिर मिलेंगे
 
 
 
 
 
 
 
 

4 comments:

संगीता स्वरुप ( गीत ) August 7, 2010 at 9:44 PM  

बढ़िया चौपाल..... अच्छे लिंक्स दिए हैं ..

अजय कुमार झा August 7, 2010 at 11:13 PM  

सुंदर संक्षिप्त चर्चा ........आप आ गए तो अच्छा लगा । शुभकामनाएं

Sadhana Vaid August 8, 2010 at 7:13 AM  

बहुत बढ़िया चौपाल !
http://sudhinama.blogspot.com
http://sadhanavaid.blogspot.com

Post a Comment

About This Blog

Blog Archive

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP